फर्जी बच्चे दिखाकर लाभ लेने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई, होगा नियमित निरीक्षण

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Jul 2021, 7:55 AM IST
  • शुक्रवार को उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने कहा कि फर्जी बच्चे दिखाकर योजनाओं का लाभ लेने वाले मदरसों को चिह्नित करके उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने मदरसों का नियमित निरीक्षण करने का निर्देश दिया है. 
मदरसों का होगा नियमित निरीक्षण (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा. आगरा में मदरसों को लेकर प्रशासन सख्त हो गया है. अब फर्जी बच्चे दिखाकर योजनाओं का लाभ लेने वाले मदरसों को चिह्नित किया जाएगा और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही बच्चों को टीचरों की ओर से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं दिए जाने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी. इसके अलावा मदरसों का नियमित निरीक्षण किया जाएगा.

शुक्रवार को सर्किट हाउस में उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष अशफाक सैफी अधिकारियों के साथ केंद्र और प्रदेश सरकार की ओर से अल्पसंख्यक समुदाय के कल्याण के लिए चल रही योजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को ये निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि आयोग चाहता है कि सभी को न्याय मिले, किसी के साथ भेदभाव न हो और किसी का न तुष्टीकरण न हो.

Jobs: यूपी एनएचएम कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर के लिए नौकरियां, जानें कैसे करे आवेदन

उन्होंने मदरसों का नियमित निरीक्षण करने का निर्देश देते हुए कहा कि आयोग का पूरा प्रयास अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चों को शिक्षित करने पर रहेगा. उन्होंने जनपदों में मदरसों की संख्या के साथ ही मदरसों में नियुक्त शिक्षकों की संख्या और मदरसों में पढ़ रहे बच्चों की जानकारी प्राप्त कर मैनेजर को पत्र भेजने को कहा है. इसके अलावा अल्पसंख्यक समुदाय की बस्तियों में विकास कराने के लिए उन्होंने नगर-निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए है.

आयोग के अध्यक्ष अशफाक सैफी ने सर्किट हाउस में बैठक से पहले अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की समस्याओं को सुना. जिसके बाद अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए. उन्होंने टोरंट के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कोरोना महामारी के कारण गरीब वर्ग के जो लोग बिजली का बिल जमा नहीं कर पाए हैं. उनसे बिजली का बिल किस्तों में लिया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें