आगरा: आतिशबाज चमन मंसूरी अपने बेटे और चाचा के जनाजे में शामिल नहीं हुआ

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Oct 2020, 10:50 AM IST
  • आगरा में आतिशबाज चमन मंसूरी अपने अपने सगा भाई शेरू, चाचा और बेटे आबिद के जनाजे में शामिल नहीं हो पाया. 
ट्रैक्टर से गिरा युवक, रोटावेटर से कट कर हुई मौत

आगरा. आगरा में आतिशबाज चमन मंसूरी ने नियमों की अनदेखी कर घर में आतिशबाजी का भंडारण किया था. इस अनदेखी की कीमत उसे बहुत महंगी पड़ी. वह अपने सगा भाई शेरू, चाचा और बेटे आबिद के जनाजे में शामिल नहीं हो पाया. रिश्तेदारों ने शवों को पुर्द-ए-खाक किया गया. कर्मचारी फरमान के शव को उसके परिजनों के हवाले कर दिया गया है. इस हादसे के बाद से ही चमन मंसूरी अंडरग्राउंड हो गया है. 

आगरा के न्यू आजमपाड़ा शाहगंज में रविवार को आतिशबाज चमन मंसूरी के मकान में अवैध रूप से पटाख बनाए जा रहे थे. जिसके कारण उसके घर पर विस्फोट हो गया. उसके घर पर पटाखों का भंडारण भी था, जिस वजह से बड़ा धमाका हुआ. इसके कारण चार लोगों की जान चली गई. पड़ोसियों की जान भी खतरे में आ गई थी. 

आगरा: आतिशबाज चमन मंसूरी पर विस्फोटक एक्ट का केस, घर में था अवैध पटाखा गोदाम

इस हादसे में उसका सगा भाई शेरू, चाचा और बेटे आबिद की मौके पर ही मौत हो गई थी. इसके अलावा कारीगर फरमान की मौत हो गई. सूचना के बाद पर पहुंची पुलिस ने क्षेत्रीय लोगों की मदद से अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला था. दो मासूम बच्चों सहित तीन अभी भी जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं. 

आगरा: अवैध पटाखा गोदाम में आग, धमाकों से मचा हड़कंप, 3 की मौत, 8 घायल

हादसे में मारे गए चार लोगों का शव पुलिस ने सोमवार को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था. कारीगर फरमान के परिजन पोस्टमार्टम हाउस पर आकर शव लिए थे. वहीं, तीन शवों को लेने के लिए परिवार का कोई सदस्य नहीं आया था. बाद में रिश्तेदारों ने पहुंच कर शव को अपने कब्जे में लिया. फरमान का शव कब्रिस्तान में दफन किया गया और आबिद, सलाउद्दीन व शेरू के शवों को सुपुर्द-ए-खाक किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें