हेलिकॉप्टर हादसा: शहीद पृथ्वी सिंह चौहान के घर CM योगी, 50 लाख देने का ऐलान

Smart News Team, Last updated: Fri, 10th Dec 2021, 7:25 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तमिलनाडु में सैन्य हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद हुए विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान के आगरा स्थित पैतृक आवास पहुंचे. उन्होंने शहीद के परिजन को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता, एक सदस्य को नौकरी देने और एक संस्था का नाम शहीद पृथ्वी सिंह के नाम पर रखने का ऐलान किया.
हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद हुए विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान को श्रद्धांजलि देते सीएम योगी आदित्यनाथ (फोटो- CMOfficeUP ट्विटर)

आगरा: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तमिलनाडु के कुन्नूर में सैन्य हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद हुए विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान को श्रद्धांजलि दी. सीएम योगी शुक्रवार शाम शहीद पृथ्वी सिंह चौहान के आगरा में सरन नगर (दयालबाग) स्थित पैतृक आवास पहुंचे. मुख्यमंत्री ने शहीद की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. वे शहीद के घर पर करीब 20 मिनट तक रुके. उन्होंने परिवार के लोगों से मुलाकात कर उन्हें ढांढस बंधाया. सीएम योगी आदित्यनाथ ने शहीद के परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने और परिजन को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया. साथ ही एक संस्था का नाम भी शहीद पृथ्वी सिंह चौहान के नाम पर रखा जाएगा.

सीएम योगी ने कहा कि तमिलनाडु में हुए हादसे से पूरा देश आहत है. दिवंगतों के परिजन के साथ हरएक भारतवासी पूरी संवेदना के साथ खड़ा है. आगरा में आज हम सब मिलकर दिवंगत विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं. तमिलनाडु में 8 दिसंबर को दुर्घटनाग्रस्त हुए हेलीकॉप्टर में वह CDS जनरल बिपिन रावत के साथ थे.

 

सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत को दिल्ली में पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आगरा पहुंचे. संभवतया शनिवार सुबह विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान का पार्थिव शरीर आगरा आएगा. यहां राजकीय सम्मान के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी.

जनरल बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर हादसे में निधन, ऐसा रहा उनका सैन्य करियर

विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान इसी महीने आगरा स्थित अपने घर आने वाले थे. वे अपने पिता के जन्मदिन और नए साल के जश्न में शामिल होने वाले थे. परिजन के मुताबिक 31 दिसंबर को उनके घर आने की पूरी योजना बन गई थी. घर वाले पार्टी की तैयारी कर रहे थे. मगर तभी उनकी शहादत की खबर आ गई. शहीद के परिजन के साथ-साथ उनके पड़ोसी भी शोक में डूबे हैं.

जनरल बिपिन रावत की उत्तराखंड के अपने गांव में घर बनाने की हसरत अधूरी रह गई

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें