सिपाही हत्याकांड: खनन माफिया ने उजाड़ी दुनिया, एक साल पहले ही हुई थी शादी

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Nov 2020, 7:59 PM IST
  • सिपाही सोनू चौधरी मुख्य रूप से अलीगड़ में स्थित जट्टारी गांव के रहने वाले थे. बताया जा रहा है कि साल 2018 में ही उनकी नौकरी लगी थी. उनके निधन के बाद से ही उनकी दुनिया ही उजड़ गई है.
सिपाही सोनू चौधरी के निधन से न केवल परिवार बल्कि पूरे गांव में मातम छाया हुआ है

आगरा: आगरा के खेरागढ़ में खनन माफिया के गुर्गों ने ट्रैक्टर चढ़ाकर सिपाही की हत्या कर दी. सिपाही सोनू चौधरी मुख्य रूप से अलीगड़ में स्थित जट्टारी गांव के रहने वाले थे. बताया जा रहा है कि साल 2018 में ही उनकी नौकरी लगी थी. उनके निधन के बाद से ही उनकी दुनिया ही उजड़ गई है. सिपाही सोनू चौधरी के निधन से न केवल परिवार बल्कि पूरे गांव में मातम छाया हुआ है. उनकी शाली पिछले साल ही आठ मई को बुलंदशहर की प्रिया से हुई थी. सोनू की थाना सैंया में ड्यूटी लगी थी, ऐसे में उनकी पत्नी प्रिया भी उनके साथ ही रहती थी. पति के मौत के बाद से ही प्रिया बेसुध हो गई है.

सोनू के पिता किसान थे, जिनकी सात महीने पहले ही बीमारी के कारण मौत हो गई. सोनू का एक छोटा भाई नवनीत भी है, जो इस समय सेना में हैं. परिजनों के मुताबिक पिता के निधन के बाद से सोनू ही परिवार का मुखिया था. घर से जुड़े सभी निर्णय सोनू ही लिया करता था. सोनू के पोस्टमार्टम के बाद उनके पार्थिव शरीर को पुलिस लाइन लाया गया और यहीं पर ही उन्हें अंतिम विदाई दी गई. सोनू को सलामी देने के बाद परिजन उनका पार्थिव शरीर परिजन गांव ले आए.

आगरा: बैखोफ खनन माफिया के गुर्गे ने सिपाही की ट्रैक्टर से कुचलकर की हत्या, फरार

बता दें कि रविवार सुबह पांच बजे पुलिस को सैंया थाने में अवैध खनन कर ट्रैक्टर-ट्रॉली राजस्थान से आगरा की ओर आने की सूचना मिली थी. सूचना मिलते ही सैंया थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर अमित कुमार, सिपाही सोनू कुमार चौधरी, सुधीर, सूरज, सुनील और शिशुपाल ट्रैक्टर पकड़ने के लिए निकल गए. पुलिस टीम थाने को गांव सोन का बड़ा नगला के पास पांच-छह ट्रैक्टर-ट्रॉली आते हुए दिखाई दिए. इस बीच गाड़ी से उतरकर सिपाही सोनू ने ट्रैक्टर को डंडा दिखाकर उसे रोकने की कोशिश की. लेकिन चालक ने ट्रैक्टर नहीं रोका, उल्टा उसे सोनू के ऊपर चढ़ा दिया. इसके बाद फायरिंग करते हुए चालक साथ में चल रहे अन्य ट्रैक्टरों पर बैठकर भाग गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें