आगरा: कोरोना फाइटर के नाम से बोलती थी तूती, निकला सट्टेबाज, अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 08/10/2020 10:32 PM IST
  • आगरा के कमला नगर थाने की पुलिस ने गुरुवार को आईपीएल मैचों में सट्टा लगाने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है. पता चला कि आरोपी लॉकडाउन में पुलिस वालों के साथ कोरोना फाइटर बनकर चलता था.
आरोपी सट्टेबाज के साथ कमला नगर थाने की पुलिस

आगरा: शहर के कमला नगर थाने क्षेत्र में आईपीएल मैच में सट्टा लगाने वाले एक सट्टेबाज को गिरफ्तार किया गया है.  पुलिस ने आरोपी के घर पर दबिश देकर उसे रंगे हाथों पकड़ लिया जबकि उसके दो साथी मौके से फरार हो गए. 

बताया जा रहा है कि जब तक कमला नगर थाना नहीं बना था इलाका बल्केश्वर चौकी में आता था. तब तक इलाके में काले उर्फ जितेंद्र की तूती बोलती थी. लोगों का कहना है कि वह लॉक डाउन में सफेद टीशर्ट पहनकर पुलिस के साथ घूमा करता था और वह एक कोराना फाइटर था. यहां तक कि सब्जी का ठेला कहां लगेगा? किसकी दुकान खुलेगी? किसको पास मिलेगा? यह सब वही तय करता था. जरुरतमंद लोग सिफारिश के लिए उसके दरवाजे पर हाजिरी लगाते थे. लेकिन जब से कमला नगर में थाना बना तो जितेंद्र की उल्टी गिनती शुरू हो गई. जिसके बाद सट्टेबाजी में पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया.

 

इस पूरे प्रकरण में कमला नगर के थाना प्रभारी निरीक्षक नरेंद्र शर्मा ने बताया कि बुधवार रात को 11 बजे बल्केश्वर में आईपीएल मैच पर सट्टा लगाया जा रहा है. जिसके बाद पुलिस ने जितेंद्र उर्फ काले के घर पर दबिश दी.वहां सट्टेबाजी चल रही थी. जितेंद्र को पुलिस ने पकड़ लिया लेकिन वहां मौजूद उसके दो साथी मौके से भाग गए. पुलिस ने आरोपी को थाने लाकर पूछताछ की. उसने बताया कि आदर्श नगर निवासी पंकज उर्फ चड्ढी और बल्केश्वर निवासी नौशाद भी बुक चलाते हैं. पुलिस ने पंकज और नौशाद घरों पर दबिश दी. दोनों फरार मिले. पंकज एक पार्षद का भाई बताया जा रहा है.पार्षद अपने भाई की पैरवी के लिए थाने गया था.

 पुलिस को जानकारी मिली है कि एक अन्य पार्षद का भी बुकियों को संरक्षण है.पूर्व में उसका भी बुक में हस्तक्षेप रहता था मगर वर्तमान में उसने इस धंधे से दूरी बना ली है.इंस्पेक्टर कमला नगर ने बताया कि पार्षद की भूमिका की भी जांच की जा रही है. पुलिस को पूछताछ में यह भी पता चला है कि आईपीएल मैच में उन लोगों की बुक भी चल रही हैं जो शहर छोड़ चुके हैं. हालांकि पुलिस रिकार्ड में उनके नाम पहले से दर्ज हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें