आगराः फुटवियर इंडस्ट्री पर कोरोना की मार, लॉकडाउन के डर से नहीं हो रहे ऑर्डर कंफर्म

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 09:35 PM IST
  • कोरोना वायरस की वजह से विदेशी खरीददार अपने ऑर्डर कंफर्म नहीं करा रहे हैं. विदेशी खरीददारों को डर है कि फिर से लॉकडाउन लग गया तो उनका माल स्टोर में फंस जाएगा.
आगरा में लाॅकडाउन के डर से फुटवियर निर्यातकों के ऑर्डर कंफर्म नहीं हो रहे हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर

आगरा. कोरोना वायरस की मार आगरा के फुटवियर और हस्तशिल्प के निर्यात पर पड़ रही है. खरीददारों को डर है कि फिर से लाॅकडाउन न लग जाए, इस वजह से खरीददार अपने ऑर्डर कंफर्म नहीं कर रहे हैं. खरीददार बड़े ऑर्डर देने से कतरा रहे हैं. जिस वजह से सीजन की बिक्री पर भी काफी प्रभाव पड़ेगा. लोगों ने केन्द्रीय उद्योग और वाणिज्य राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी को अपनी समस्या बताई.

इस बारे में एफमेक के उपाध्यक्ष राजेश सहगल ने कहा कि मौजूदा हालात में सरकार को प्री शिपमेंट इंश्योरेंस कवर देना होगा. ये सुविधा मिलने पर ही उद्यमी निर्यात की ओर बढ़ पाएंगे. वहीं हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रजत अस्थाना ने कहा कि इस समय खरीददार अपने को सुरक्षित रखने के लिए कोई भी तरीका अपनाने का तैयार है. ऐसे में सप्लायर को सरकारी सहयोग करना चाहिए.

16 दिसंबर से निरस्त होगी आगरा फोर्ट-लखनऊ इंटरसिटी और अजमेर-सियालदाह एक्सप्रेस

लाॅकडाउन के डर से विदेशी खरीददार ऑर्डर को कंफर्म नहीं कर रहे हैं. स्टाॅक से बचने के लिए खरीददार अपने ऑर्डर को टाल रहे हैं. आगरा के एक हस्तशिल्प निर्यातक ने कहा कि उनके खरीददार को ऑर्डर के तहत ऐसा माल चाहिए था जिसको तैयार करने में दो महीने का समय लगता है. मौखिक बात हो गई लिखित की बात आई तो टालमटोल करने लगे. वजह पूछी तो बताया कि यदि क्रिसमिस पर बिक्री कमजोर रही तो ऑर्डर कैंसिल कर देंगे.

आगरा:लुटेरे ने दूल्हे के रिश्तेदारों को पिलाई नशीली चाय, बेहोश होने पर की लूटपाट

हालही आगरा आए केन्द्रीय उद्योग और वाणिज्य राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी से उद्यमियों ने मुलाकात की. केन्द्रीय मंत्री को बताया कि ऑर्डर मिलने के बावजूद कंफर्म नहीं हो रहे हैं. ऐसा भी डर है कि ऑर्डर हाथ में होने के बावजूद प्रशासन दुकान बंद न करवा दे. इसके लिए मंत्री से उद्यमियों ने प्री शिपमेंट एक्सपोर्ट इंश्योरेंस कवर दिए जाने की मांग की.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें