आगरा

अनोखी पहल: अब बिना बटन दबाए चलेगी कोविड-19 अस्पताल की लिफ्ट

Smart News Team, Last updated: 02/06/2020 09:10 PM IST
  • कोरोना से बचने के लिए सेंसर्स युक्त आधुनिक लिफ्ट लगाई जा रही हैं। इनमें बटन को दबाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। नंबरों और निर्देशों के आगे उंगली के इशारे पर काम करेगी। बाल रोग विभाग में ऐसी दो लिफ्ट लगाई जाएंगी। काम शुरू हो गया है।
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना वायरस संकट के बीच आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में कोविड अस्पताल यूनिट-2 की लिफ्ट अनोखी होगी। कोरोना से बचने के लिए सेंसर्स युक्त आधुनिक लिफ्ट लगाई जा रही हैं। इनमें बटन को दबाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। नंबरों और निर्देशों के आगे उंगली के इशारे पर काम करेगी। बाल रोग विभाग में ऐसी दो लिफ्ट लगाई जाएंगी। काम शुरू हो गया है।

बाल रोग विभाग में कोविड यूनिट-2 बन रही है। विभाग के चार मंजिला भवन में 1981 की लिफ्ट थीं। लिफ्ट कई साल से बंद पड़ी हैं। यह लिफ्ट 2019 में कंडम घोषित कर दी गईं। अब इनकी जरूरत आ पड़ी है। कारण यह कि कोविड मरीजों को सीढ़ियों से ले जाना खतरनाक हो सकता है। इन्हें बहुत जल्दी वार्डों में पहुंचाना होता है। बिल्डिंग की सीढ़ियां भी ठीक नहीं है। जरूरत के मुताबिक चौड़ी नहीं हैं। लिहाजा नई लिफ्ट लगवाने का फैसला किया गया है। संभवत: यहां दो लिफ्ट लगाई जानी हैं। इसके लिए बीते कई दिनों से काम चल रहा था। कंडम लिफ्ट उतार ली गई हैं। अब हाई डेफीनेशन सेंसर युक्त नई लिफ्ट लगाई जाएंगी। इन्हें लगाने का काम एडीए कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक 23 जून तक काम खत्म करना है। नई कोविड यूनिट जून और जुलाई में नए मरीजों की आशंका के मद्देनजर बनाई जा रही है। इसमें वेंटीलेटर और आक्सीजन आदि का इंतजाम भी रहेगा।

भूतल पर डाक्टर और कंट्रोल रूम

कोविड यूनिट नंबर-2 में भी भूतल को मरीजों के लिए नहीं रखा जाएगा। यहां कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। कुछ डाक्टरों के चैंबर पहले से मौजूद हैं। वह चलते रहेंगे। डाक्टर और पैरा मेडिकल स्टाफ के बैठने और आराम करने के लिए भी कुछ कमरों को ठीक किया जाएगा। पूरे भवन में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। आइसोलेशन वार्डों में भी कैमरे और स्पीकर का प्रबंध किया जा रहा है।

अन्य खबरें