साइबर ठगों ने बनाया फर्जी कोरोना वैक्सीनेशन एप, जानें कैसे रहे सावधान

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 10:28 AM IST
  • साइबर ठगों ने लोगों को ठगने के लिए कोरोना वैक्सीनेशन का फर्जी एप बना दिया है. आगरा पुलिस ने इस संबंध में गाइडलाइन जारी कर लोगों से सावधान रहने की अपील की है. 
साइबर क्राइम(प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा. साइबर ठगों ने लोगों को ठगने के लिए अब कोरोना वैक्सीन का सहारा लिया है. मिली जानकारी के अनुसार साइबर ठगों ने कोरोना वैक्सीनेशन के लिए को-विन ( Co-Win)नामक एक फेक एप बनाया है. एप पर लिखा है कि कोरोना वैक्सीनेशन एप के जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद होगा. इसको लेकर आगरा पुलिस ने गाइडलाइन जारी कर लोगों से सावधान रहने की अपील की है. पुलिस ने बताया कि साइबर ठगो कोरोना वैक्सीनेशन के नाम पर लोगों को फोन कर अपने जाल में फंसा कर उन्हें ठग सकते हैं. अगर इस तरह का फोन आता है तो पुलिस को तुरंत सूचित करें.

शुक्रवार को रेंज साइबर सेल ने गाइडलाइन जारी कर कहा कि को-विन ( Co-Win)नामक एप फर्जी है. इसके भ्रम में न आएं. साइबर अपराधियों की ये बात पता हैं कि लोग इन दिनों कोरोना संक्रमण के डर के साये में जी रहे हैं. ऐसे में साइबर अपराधियों ने आपदा को अवसर में बदलते हुए कोरोना वैक्सीनेशन के लिए फेक एप बना डाला है. देश में कोरोना वैक्सीनेशन शुरू होने वाला है. ऐसे में हर कोई चाहेगा कि उसे पहले वैक्सीन लगा जाए. इसी का फायदा उठाने की कोशिश में साइबर अपराधी लगे हुए हैं.

रिश्ते शर्मसार! शराब के नशे में बेटे ने अपनी मां के साथ किया गलत काम और मारपीट

जारी गाइडलाइन में कहा गया है कि साइबर अपराधियों को आपके बैंक खाते से पैसा निकालने के लिए उन्हें सिर्फ एक ओटीपी जानना पड़ता है. जो भी व्यक्ति इस एप को डाउनलोड करेगा उसका मोबाइल साइबर अपराधी हैक कर सकते हैं. इसके बाद साइबर फ्रॉडों के लिए ओटीपी का पता लगाना आसान हो जाता है. ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत हैं.

योगी सरकार ने फिर किया फेरबदल, 41 इंस्पेक्टर का हुआ लखनऊ से तबादला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें