रिटायर्ड फायर सर्विस कर्मी से साइबर ठगी, ट्रेजरी कर्मी बन बैंक से उड़ाए 27 लाख

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 07:14 AM IST
  • आगरा में एक रिटायर्ड फायर सर्विस कर्मी से साइबर ठगी हुई. साइबर फ्रॉड ने फायर सर्विस से रिटायर्ड प्रेम चंद के बैंक से 27 लाख रुपये निकाल लिए. रेंज साइबर सेल की जांच में पता चला कि साइबर ठगी करने वाले गिरोह ने कुछ दिनों में 40 से अधिक पुलिस पेशनर्स को ट्रेजरी कर्मी बनकर फोन किए.
आगरा में एक रिटायर्ड फायर सर्विस कर्मी से साइबर ठगी हुई.

आगरा. आगरा में अब रिटायर्ड फायर सर्विस कर्मी  से साइबर ठगी का मामला सामने आया है. साइबर ठगों ने पीड़ित प्रेम चंद के बैंक से 27 लाख रुपये उड़ा दिए. प्रेम चंद ने बताया कि यह रकम उनके खाते में रिटायर्ड होने के बाद आई थी.

पुलिस साइबर सेल ने बताया कि साइबर फ्रॉड ने प्रेम चंद को फोन कर खुद को ट्रेजरी कर्मचारी बताकर उसने पेंशन बैंक में ट्रांसफर कराने की बात कही. इसके लिए साइबर ठग ने प्रेम चंद से उनके बैंक से संबंधित कुछ जानकारी मांगी. प्रेम चंद उसके जाल में फंस गए और उन्होंने बैंक डिटेल्स दे दी. इसके बाद उनके खाते से 27 लाख रुपये निकाल लिए गए.

सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों को साइबर अपराधी ने बनाया शिकार, IG ने जारी की एडवाइजरी

साइबर सेल से पता चला कि जिस नंबर से पीड़ित प्रेम चंद को फोन आया था, उसकी लोकशन झारखंड की मिली. जांच में पता चला कि 30 नवंबर से एक दिसंबर के बीच फायर सर्विस से रिटायर प्रेम चंद के साथ साइबर ठगी हुई. 

इससे पहले एलआईयू के रिटायर एचसीपी को भी साइबर ठगों ने इसी तरह से ठगा था. ह अक्टूबर में एल आई यू से रिटायर्ड हुए थे. पीड़ित नाहर सिंह ने बताया कि उनके फोन आया था. फोन करने वाला ने खुद को ट्रेजरी कर्मचारी बताया. उसने कहा कि पेंशन देने के लिए कुछ जानकारी चाहिए. नाहर सिंह साइबर ठग की बातों में फंस गए. सायबर ठग ने उनसे जो कुछ पूछा उन्होंने बता दिया. कुछ देर बाद उनके खाते से 96 हजार रुपये निकल गए. 

पुलिस ने बताया कि प्रेम चंद और नाहर सिंह दोनों को ठगने वाले एक ही गिरोह का काम है. रेंज साइबर सेल की जांच में पता चला कि साइबर ठगी करने वाले गिरोह ने कुछ दिनों में 40 से अधिक पुलिस पेशनर्स को ट्रेजरी कर्मी बनकर फोन किए.

सावधान! साइबर फ्रॉड के निशान पर अब रिटायर्ड पुलिस वाले, इस तरह बना रहे शिकार

इन सावधानियों का रखें ध्यान

1. ट्रेजरी और बैंक आपको फोन करके बैंक से जुड़े प्राइवेट जानकारी नहीं मांगती हैं.

2. अगर कोई आपको फोन करके आपके मोबाइल पर आए पासवर्ड को शेयर करने की बात कहता है तो उसे शेयर नहीं करें.

3. अगर आपको ट्रेजरी से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी चाहिए तो आप खुद ट्रेजरी कार्यालय चले जाएं. वहां पर जाकर ट्रेजरी अधिकारी और बाबू से मिलें.

4. जिस भी बैंक एकाउंट में नेट बैंकिंग है, उसमें ज्यादा कैश नहीं रखें.

5. अपने खाते में पैसों को सेविंग प्लस मोड में रखें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें