सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों को साइबर अपराधी ने बनाया शिकार, IG ने जारी की एडवाइजरी

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 04:44 PM IST
  • आगरा व उसके आसपास क्षेत्रों में तीन पुलिसकर्मियों के खाते से रकम निकाले जाने और ठगी के मामले सामने आये हैं. इस मामले को लेकर आईजी ए सतीश गणेश ने एडवाइजरी जारी और व्हॉट्सएप्प पर ग्रुप बनाकर भी जानकारी साझा की.
आगरा में पुलिसकर्मियों के खाते से रकम निकाले जाने और ठगी के मामले सामने आ रहे हैं (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा: आगरा व उसके आसपास के कई सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों को साइबर अपराधी अपना शिकार बना चुके हैं. वह सेवानिवृत्त कर्मचारियों को कॉल करते हैं, और उनके खाते की जानकारी लेकर रकम निकाल लेते हैं. हाल ही में आगरा व उसके आसपास क्षेत्रों में तीन पुलिसकर्मियों के खाते से रकम निकाले जाने और ठगी के मामले सामने आये हैं. इस मामले को लेकर आईजी ए सतीश गणेश ने एडवाइजरी जारी और व्हॉट्सएप्प पर ग्रुप बनाकर भी जानकारी साझा की.

आईजी ए सतीश गणेश ने सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों को साइबर अपराधियों से बचाने के लिए पुलिसकर्मियों और आईपीएस अधिकारियों के वाट्सएप ग्रुपों का सहारा लिया जा रहा है. आईजी ने एडीजी स्थापना को भी अवगत कराया है. 

सावधान! साइबर फ्रॉड के निशान पर अब रिटायर्ड पुलिस वाले, इस तरह बना रहे शिकार

आगरा रेंज के अलावा अन्य जिलों में भी ठगी की शिकायत मिली, जिसे लेकर पुलिसकर्मियों को सचेत किया जा रहा है. साइबर अपराधियों से बचाने के लिए पुलिसकर्मियों का एक व्हाट्सएप पर एक ग्रुप भी बनाया गया, जिसमें साइबर अपराधियों से बचने के तरीके बताए जा रहे हैं. इसके अलावा प्रदेश में सेवानिवृत्त होने वाले पुलिसकर्मियों को विदाई पर ही इस संबंध में सचेत करने के लिए पत्र लिखा है. 

मामले को लेकर साइबर सेल ने एडवाइजरी जारी करके पुलिसकर्मियों को फोन पर बैंक खाते और विभाग की जानकारी लेने वालों पर विश्वास न करने की सलाह दी. एडवाइजरी में कहा गया कि उनके बारे में पूरी जानकारी लेने के बाद ही कोई निजी जानकारी देनी चाहिए. साथ ही पुलिसकर्मियों को आगाह किया गया कि कोषागार की ओर से इस तरह फोन नहीं किया जाता है. अपनी निजी जानकारी कोषागार पर पहुंचकर खुद ही देनी चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें