आगरा: धौर्रा गांव में भूसे में मिली बच्चे की लाश, एक दिन पहले हुआ था गायब

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 11:15 AM IST
  • आगरा के एत्मादपुर के धौर्रा गांव में एक दिन पहले लापता हुए नौ साल के बालक उपदेश की लाश घर के पास ही भूसे के ढेर से मिली. पांच साल पहले उपदेश का चचेरा भाई भी गायब हो गया था. जिसका पता आज तक नहीं चल सका है. गांव वालों में पुलिस के कारवाई को लेकर असंतोष है.
बालक का शव मिलने के बाद मौके पर पुलिस.

आगरा. आगरा के धौर्रा गांव में गुरुवार को आठ सितंबर को लापता हुए नौ वर्षीय उपदेश का शव घर के पास ही भूसे के ढेर में दबा हुआ मिला. आशंका जताई जा रही है कि बच्चे की हत्या गला दबाकर की गई है. लेकिन बच्चे को किसने मारा क्यों मारा यह पहेली अभी उलझी हुई है. बुधवार को बालक के पिता के तहरीर पर पुलिस ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया था. इस घटना से गांव वालों में आक्रोश है और गांव में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है.

आगरा पुलिस की बड़ी कामयाबी, नकली पेट्रोल कांड में कारोबारी सहित आठ अरेस्ट

जानकारी के मुताबिक धोर्रा गांव में रहने वाले रघुनाथ सिंह किसान हैं. उपदेश उनका इकलौता बेटा घर के बाहर खेलते समय गायब हो गया था. परिजनों ने हर तरफ उसकी तलाश की लेकिन वह नहीं मिला तब शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंचे. लेकिन तब पुलिस ने कोई कारवाई नहीं की. फिर परिजनों ने क्षेत्रीय बीजेपी विधायक रामप्रताप सिंह चौहान से संपर्क किया. बुधवार को विधायक के हस्तक्षेप के बाद किडनैपिंग का मुकदमा दर्ज हो पाया. 

आगरा: दरोगा ने गुंडई दिखाते हुए युवती को डंडों से पीटा, CCTV में कैद हुई घटना

इसके बाद गुरुवार सुबह रघुनाथ की पत्नी की नजर घर के पास रखे पड़ोसी के भूसे के ढेर पर गई. उन्हें लगा जैसे अंदर कुछ छिपाया गया है. जब भूसा हटाया तो अंदर बच्चे का शव दिखा. अपने बच्चे का शव देखते ही पूरे घर में चीत्कार मच गई. माता पिता का रो रो कर बुरा हाल हो गया. घटना की सूचना पाकर पुलिस के भी होश उड़ गए. गांव वाले लापरवाही का आरोप लगाते हुए पुलिस के खिलाफ ही लामबंद हो गए. तनाव देख गांव में कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई.

ताज के दीदार को जाने वाले पर्यटकों की एंट्री पर चेकिंग का बदल गया तरीका, अब...

दरअसल बच्चे के पिता रघुनाथ ने मुकदमा लिखाते समय ही अपने पड़ोसी पर शक जाहिर किया था. इस पर पुलिस ने पड़ोसी को पूछताछ के लिए भी बुलाया था. पड़ोसी ने पुलिस से कहा कि वो उनके का अपहरण क्यों करेंगे. उनकी तो कोई आपसी रंजिश भी नहीं है. इस मामले में ग्रामीणों ने बताया कि पांच साल पहले उपदेश का चचेरा भाई 17 वर्षीय हिमांशु लापता हुआ था और उसका भी आज तक कोई सुराग नहीं मिला है. घटना के बारे में एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि गहराई से जांच की जा रही है और जो भी हकीकत होगी दोपहर तक सामने आ जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें