ताजनगरी में निकला डेल्टा वैरियंट, 10 मरीजों की हुई पुष्टि, 3 की मौत

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Jul 2021, 9:28 AM IST
  • ताजनगरी में कोविड संक्रमण के 10 मरीजों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हई है. जिनमें तीन की मौत हो चुकी है. राहत की बात यह है कि किसी भी मरीज में डेल्टा प्लस वैरिएंट नहीं निकला है. यह डेल्टा से अधिक खतरनाक माना जाता है.
आगरा में कोरोना संक्रमित मरीजों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि

आगरा. आगरा में कोविड संक्रमण के 10 मरीजों में डेल्टा वैरिएंट पाया गया है. जिनमें से तीन मरीजों की मौत हो चुकी है. एसएन मेडिकल कॉलेज ने कुल 60 संक्रमितों के सैम्पल टेस्ट के लिए दिल्ली भेजे थे. जिनमें 40 की रिपोर्ट आ गई है. पॉजिटिव पाए गए मरीजों में से दो को कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थी. दो अन्य को एक-एक डोज लगी थी. वहीं मृतक मरीजों में भी एक को वैक्सीन की पहली खुराक लग चुकी थी. 

एसएनएमसी में माइक्रोबायोलॉजी विभाग ने कोविड-19 की जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए 5 जून को 40 और 26 जून को 20 सैम्पल इंस्टीट्यूट आफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलाजी (आईजीआईबी) दिल्ली के लिए भेजे थे. जिनमें 20 साल से लेकर 80 साल तक के मरीजों के सैम्पल शामिल थे. इन मरीजों में से 40 की रिपोर्ट आ चुकी है. जिसमें 16 मरीजों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई है. इनमें आगरा के 10, मैनपुरी के 2, फिरोजाबाद के 2, हाथरस का 1 और सहारनपुर का 1 मरीज शामिल है.

आगरा: नेशनल ताइक्वांडो खिलाड़ी की पुलिस करेगी मदद, नहीं बेचने पड़ेंगे मेडल

मृतक मरीजों में शाहगंज निवासी 72 साल का पुरुष मरीज, सरलाबाग दयालबाग निवासी 69 साल का पुरुष मरीज और शास्त्रीपुरम निवासी 49 साल की महिला मरीज शामिल है. एसएनएमसी में माइक्रोलॉजी विभाग की अध्यक्ष डॉ. आरती अग्रवाल ने बताया कि हम लगातार जीनोम सीक्वेंसिंग करा रहे है. दिल्ली के साथ ही 33 नमूने केजीएमयू लखनऊ भी भेजे गए है. जिनमें 40 की रिपोर्ट आई है और 16 मरीजों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई है. अच्छी बात यह है कि डेल्टा प्लस का मामला सामने नहीं आया है. यह डेल्टा से ज्यादा खतरनाक माना जाता है. फिर भी लोग सावधानी बरतें और मास्किंग, सेनेटाइजिंग व शारीरिक दूरी बनाएं रखें. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें