डेंगू और मलेरिया के मरीज बढ़े, दवाओं की बढ़ती मांग से 5 से 15 प्रतिशत तक बढ़ी कीमतें

Smart News Team, Last updated: Thu, 2nd Sep 2021, 2:14 PM IST
  • वायरल, डेंगू और मलेरिया के मरीज बढ़ने शुरू हो गए. इन सभी बीमारियों में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों की बिक्री अचानक से बढ़ गई है. सबसे अधिक बिक्री बुखार और सर्दी-जुकाम की दवाओं की बढ़ी है. सभी दवाइयों को मिलाकर करीब 30 प्रतिशत तक खपत बढ़ी है और इनके रेटों में भी 5 से 15 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है
डेंगू और मलेरिया के मरीज बढ़े, दवाओं की बढ़ती मांग से 5 से 15 प्रतिशत तक बढ़ी कीमतें (फाइल फोटो)

आगरा: इन दिनों वायरल, डेंगू और मलेरिया के मरीज बढ़ने शुरू हो गए. जिसके कारण इन सभी बीमारियों में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों की बिक्री अचानक से बढ़ गई है. इसके साथ ही इन सभी बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों के दाम में भी बढ़ोतरी हो गई है. सबसे अधिक बिक्री बुखार और सर्दी-जुकाम की दवाओं की बढ़ी है. सर्दी-जुकाम की दवाओं की मांग में 50 प्रतिशत तक का उछाल आया है, वहीं इसके कीमत में 10 से 15 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो चुकी है. 

आगरा फार्मा एसोसिएशन के प्रवक्ता पुनीत कालरा ने बताया की हम लोग अब रोज डिमांड के मुताबिक आर्डर दे रहे हैं. सभी दवाइयों को मिलाकर देखें तो करीब 30 प्रतिशत तक खपत बढ़ी है. जबकि इनके रेटों में भी 5 से 15 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है. जैसे-जैसे दवाइयों की डिमांड बढ़ेगी, कंपनियां रेट बढ़ाती जाएंगी. दरअसल थोक विक्रेताओं का स्टाक खत्म हो चुका है. रोज आर्डर दिए जा रहे हैं. बिक्री और खपत बढ़ने के साथ ही इनके दामों में भी बढ़ोत्तरी हो गई है. 

तीन दिवसीय यूपी दौरे के पहले दिन अयोध्या जाएंगे AIMIM चीफ ओवैसी, जानें AIMIM चीफ का पूरा शेड्यूल

अगर दवाइयों की बात की जाए तो एंटीबायोटिक की मांग में 30 प्रतिशत वहीं उसकी किमत में 10 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है. बारिश के सीजन में त्वचा संबधित रोग बढ़ने के कारण सबसे अधिक एलर्जी के मामले  आ रहे हैं. एलर्जी में इस्तेमाल होने वाली दवाओं की मांग 20 प्रतिशत तक बढ़ चुकी है और इसकी कीमत में 10 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो चुका है. मार्केट में अभी सबसे मंहगी दवाएं त्वचा और चर्म रोगों की ही हैं. कोविड संबंधी बचाव के  उपयोग होने वाली दवाई ,मास्क जैसे साधनों के रकिमीट में कोई बदलाव नहीं हुआ है. लेकिन इनकी मांग में भी 20 से लेकर 30 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी हुई है. कोरोना की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए लोग अब इन्हें दोबारा खरीदने लगे हैं. 

दवाई जिनके मांग और कीमत में बढ़ोतरी हुई है. 

ड्रग                           दाम बढ़े        बिक्री बढ़ी 

एंटीबायोटिक          10 प्रतिशत    30 प्रतिशत 

बुखार की दवाएं      10 प्रतिशत    50 प्रतिशत

सर्दी की दवाएं         15 प्रतिशत    50 प्रतिशत 

कफ सीरप            3.0 प्रतिशत    10 प्रतिशत 

मल्टी विटामिन      5.0 प्रतिशत    20 प्रतिशत 

त्वचा एलर्जी           10 प्रतिशत    20 प्रतिशत 

मास्क                    00 प्रतिशत     20 प्रतिशत 

आक्सीमीटर          00 प्रतिशत    20 प्रतिशत 

विक्स                       00 प्रतिशत  30 प्रतिशत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें