डेनमार्क की प्रधानमंत्री ताजमहल पहुंची, दुनिया के सातवें अजूब को कहा- बेहद खूबसूरत

Somya Sri, Last updated: Sun, 10th Oct 2021, 12:09 PM IST
  • डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सेन अपने पति बो टेनबर्ग के साथ दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताजमहल का दीदार किया. डेनमार्क पीएम आज सुबह करीब 9:30 बजे ताजमहल पहुंची और यहां उन्होंने 1 घंटे ताजमहल का दीदार किया. ताज का दीदार करने के बाद उन्होनें विजिटर्स बुक में लिखा कि सफेद पत्थर से बना ताज बेहद खूबसूरत है.
डेनमार्क की पीएम मेटे फ्रेडरिक्सन

आगरा: डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सेन अपने पति बो टेनबर्ग के साथ दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताजमहल का दीदार किया. डेनमार्क पीएम आज सुबह करीब 9:30 बजे ताजमहल पहुंची और यहां उन्होंने 1 घंटे ताजमहल का दीदार किया. ताज का दीदार करने के बाद उन्होनें विजिटर्स बुक में लिखा कि सफेद पत्थर से बना ताज बेहद खूबसूरत है. डेनमार्क पीएम ने ताजमहल का एक एक कोना निहारा. उन्होनें इस दौरान कई इतिहास से जुड़ी रोचक बातें भी जानी.

बता दें कि डेनमार्क पीएम मेटे फ्रेडरिक्सन के ताजमहल दौरा के दौरान उनके साथ टूरिस्ट गाइड नितिन सिंह मौजूद थे. जिनसे मेटे फ्रेडरिक्सन ताजमहल के इतिहास और यहां की पच्चीकारी के बारे में पूरी जानकारी ली. उन्होंने ताजमहल के पीछे यमुना किनारे मेहताब बाग के बारे में भी पूछा. जिसपर टूरिस्ट गाइड नितिन सिंह ने बताया कि इस जगह पर बादशाह शाहजहां काला ताजमहल बनवाना चाहते थे. डेनमार्क की पीएम ने ताज का दीदार करने के बाद विजिटर्स बुक में लिखा कि सफेद पत्थर से बना ताज बेहद खूबसूरत है.

आगरा मणप्पुरम लूट: पुलिस ने 3500 किलोमीटर की खाक छानी, लेकिन गिरफ्त से बाहर एक लाख का इनामी नरेंद्र

मालूम हो कि डेनमार्क के प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सेन के ताजमहल के आगमन को लेकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने सुबह 8:30 से 10:30 बजे तक आम पर्यटकों के लिए प्रवेश बंद कर दिया था. स्मारक में सुबह 7:30 बजे के बाद किसी भी पर्यटक को प्रवेश नहीं दिया गया. बता दें कि इस दौरान सुरक्षा की दृष्टि से पूरी व्यवस्था की गई थी.

बता दें की ताजमहल के दीदार के बाद डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सेन आगरा किला पहुंची. यहां उन्होंने सुबह 10:30 से 11:50 तक आगरा किला को देखा. इस दौरान भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने सुबह 9:50 बजे आगरा किला को आम पर्यटकों के लिए बंद कर दिया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें