आगरा: आईटी कपंनी का निदेशक हुआ लापता, फ्लैट में रखा मिला मोबाइल

Smart News Team, Last updated: 18/11/2020 05:48 PM IST
  • आगरा के खंदारी स्थित गुलमोहर वाटिका के फ्लैट से आईटी कंपनी के निदेशक गायब हो गये हैं. निदेशक का नाम रविनेश प्रताप सिंह बताया जा रहा है और उनकी उम्र करीब 23 साल है. बताया जा रहा है कि 24 घंटे के बाद भी आईटी कंपनी के निदेशक का कुछ पता नहीं चल पाया है.
आगरा में आईटी कपंनी का निदेशक हुआ लापता

आगरा.आगरा के खंदारी स्थित गुलमोहर वाटिका के फ्लैट से आईटी कंपनी के निदेशक गायब हो गये हैं. निदेशक का नाम रविनेश प्रताप सिंह बताया जा रहा है और उनकी उम्र करीब 23 साल है. बताया जा रहा है कि 24 घंटे के बाद भी आईटी कंपनी के निदेशक का कुछ पता नहीं चल पाया है. हैरान करने वाली बात तो यह है कि उनका मोबाइल जहां फ्लैट में रखा है तो वहीं स्कूटर उनका पार्किंग में खड़ा हुआ था. मामले को लेकर रविनेश प्रताप सिंह के पिता ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है.

पुलिस ने रविनेश प्रताप सिंह की तलाश शुरू कर दी है और सीसीटीवी फुटेज में भी वह नजर नहीं आए हैं. रविनेश प्रताप सिंह मूलरूप से एटा के रहने वाले हैं. वह केंद्रीय हिंदी संस्थान मार्ग पर गुलमोहर वाटिका के एक फ्लैट में किराए पर रते थे. रविनेश के ताऊ के लड़के नरेंद्र ने बताया कि रविनेश ने चार साल पहले अपने दो दोस्तों के साष मिलकर साझेदारी में टीआरपीएस आईटी सॉल्यूशन ग्रुप के नाम से कंपनी शुरू की थी, जिसका कार्यालय उन्होंने फ्लैट में ही बनाया था.

सैन्य अधिकारी बनकर लोगों से ठगी करने वाला व्यक्ति गिरफ्तार

रिपोर्ट के मुताबिक रविनेश वेब डिजाइनिंग और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट से जुड़े काम करते थे. बताया जा रहा है कि सोमवार को रविनेश की परिवार से बात हुई थी, लेकिन जब पांच बजे कॉल दोबारा रिसीव नहीं किया गया तो पिता ने सिकंदरा में रहने वाले एक रिश्तेदार के बेटे को उसके फ्लैट पर भेजा. रविनेश के फ्लैट में ताला लगा था, इसपर दूसरी चाबी से गेट खोला गया. ऑफिस के फर्श पर रविनेश का मोबाइल पड़ा मिला.

न्यू आगरा थाना के प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक रविनेश की तलाश की जा रही है. फ्लैट में एक कागज मिला था, जिसपर कई लोगों के नाम लिखे थे और यह भी लिखा था कि यर रुपयों के लिए तगादा कर रहे हैं. छानबीन में सामने आया है कि कंपनी खोलने के लिए रविनेश ने कर्ज लिया था और लोग अब उनसे पैसे मांग रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें