आगरा में चिकित्सक की लापरवाही, ऑपरेशन में मरीज के पेट में छोड़ा सर्जिकल ब्लेड

Smart News Team, Last updated: Thu, 26th Nov 2020, 8:51 PM IST
  • आगरा के निजी अस्पताल में चिकित्सक द्वारा बड़ी लापरवाही करने का मामला सामने आया है. चिकित्सक ने ऑपरेशन के बाद मरीज के पेट में ही अपनी सर्जिकल ब्लेड छोड़ दिया. ऐसे में मरीज को तकलीफ बढ़ने लग गई साथ ही जब उन्होंने अस्पताल में शिकायत की तो मरीज व उसके परिजनों को गाली-गलौच कर वहां से भगा दिया गया.
आगरा के निजी अस्पताल में चिकित्सक द्वारा बड़ी लापरवाही करने का मामला सामने आया

आगरा: आगरा के निजी अस्पताल में चिकित्सक द्वारा बड़ी लापरवाही करने का मामला सामने आया है. चिकित्सक ने ऑपरेशन के बाद मरीज के पेट में ही अपनी सर्जिकल ब्लेड छोड़ दिया. ऐसे में मरीज को तकलीफ बढ़ने लग गई साथ ही जब उन्होंने अस्पताल में शिकायत की तो मरीज व उसके परिजनों को गाली-गलौच कर वहां से भगा दिया गया. इस मामले को लेकर पीड़ित ने न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया, जिसपर न्यायालय ने डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और जांच के आदेश दिये.

मामला न्यू आगरा स्थित मौर्या सचखंड हॉस्पिटल का है. इस मामले को लेकर न्यायिक मजिस्ट्रेट रुमाना अहमद ने इलाज में लापरवाही बरतने को लेकर अस्पताल के डॉक्टर सिद्धार्थ धर मौर्या के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और जांच करने के भी आदेश दिये हैं. बताया जा रहा है कि डॉक्टर ने मरीज का पथरी का ऑपरेशन किया, लेकिन अपनी सर्जिकल ब्लेड उसके पेसट में ही छोड़ दी. इस वजह से मरीज की तकलीफ बढ़ने लगी, जिसे लेकर मरीज अस्पताल भी पहुंचा. लेकिन शिकायत करने पर मरीज को गाली-गलौज करके वहां से भगा दिया गया.

आगरा में मेड़ के विवाद को लेकर दो पक्षों में चली लाठी और कुल्हाड़ी, 12 लोग घायल

मरीज का नाम गौरव कुशवाहा है, जो कि ललितपुर स्थित रामनगर का रहने वाला है. पेट में दर्द होने पर 21 जून, 2016 को उसने डॉक्टर सिद्धार्थधर मौर्या से जांच करवाई. इसपर डॉक्टर ने मरीज का अल्ट्रासाउंड करते हुए पथरी की परेशानी बताई. डॉक्टर ने जांच के बाद अगले दिन ही मरीज का ऑपरेशन कर दिया. ऑपरेशन के बाद भी पेट में दर्द बंद नहीं हुआ, जिसके बाद मरीज ने दिल्ली में जांच कराई. इसमें पता चला की पेट में डॉक्टर ने सर्जिकल ब्लेड छोड़ दिया था. इस मामले को लेकर मरीज ने 14 अक्टूबर, 2019 को सिद्धार्थधर मौर्या से शिकायत की थी, लेकिन उसके साथ अभद्रता कर उसे वहां से भगा दिया गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें