आगरा: मेडिकल छात्रों का विश्वविद्यालय पर धरना, छात्र ने किया आत्मदाह का प्रयास

Smart News Team, Last updated: 11/10/2020 02:38 PM IST
  • आगरा की डॉ भीमराव अम्बेडकर यूनिवर्सिटी में BAMS के छात्र ने आत्महत्या की कोशिश की. छात्र परीक्षा कराने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. विश्वविद्यालय और पुलिस ने छात्रों को हाईकोर्ट के निर्णय के मुताबिक कार्रवाई का आश्वासन दिया. 
आगरा: मेडिकल छात्रों का विश्वविद्यालय पर धरना, छात्र ने किया आत्मदाह का प्रयास

आगरा. डॉ भीमराव अम्बेडकर यूनिवर्सिटी में BAMS के छात्र ने आत्महत्या की कोशिश की. मामला शनिवार का है जब छात्र परीक्षा कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे. इस दौरान यूनिवर्सिटी गेट पर छात्र घंटों विरोध प्रदर्शन करते रहे. यूनिवर्सिटी के साथ साथ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने भी छात्रों को समझाने बुझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र यूनिवर्सिटी गेट से नहीं हटे.

एक छात्र की बिगड़ी तबियत

कई घंटों तक धरने के बाद एक छात्र की तबियत बिगड़ गई. जिसके बाद पुलिस ने एम्बुलेंस से अस्पताल पहुचायां. साथ छात्रों को कोर्ट के निर्देश के मुताबिक कार्रवाई का आश्वासन दिया. तब छात्रों ने अपना विरोध प्रदर्शन समाप्त किया.

कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे छात्र

आपको बताते चलें कि केवी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज के छात्र बीते कई दिनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्र बीते दिनों यूनिवर्सिटी की परीक्षा में शामिल करने की मांग कर रहे थे. इसको लेकर शनिवार को छात्र फिर से यूनिवर्सिटी गेट पर पहुंचे. लेकिन दूसरे शनिवार का अवकाश होने के चलते यूनिवर्सिटी का गेट बंद था. जिसके बाद छात्र गेट नंबर 2 पर बैठ गए. इसकी सूचना विश्वविद्यालय प्रशासन ने पुलिस और प्रशासन को दी.

BAMS छात्र ने की आत्महत्या की कोशिश

विश्वविद्यालय प्रशासन के सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची. इसी बीच BAMC छात्र ने बाइक से पेट्रोल निकालकर आत्महत्या की बात कहते हुए अपने ऊपर डालने लगा. लेकिन पुलिस ने छात्र को ऐसा करने से रोका. छात्र का नाम मोनू यादव बताया जा रहा है. 

सावधान! फेसबुक पर कपल्स चैलेंज पड़ सकता है महंगा, पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

हाईकोर्ट के निर्णय अनुसार कार्रवाई का आश्वासन

विश्वविद्यालय और पुलिस ने छात्रों को हाईकोर्ट के निर्णय के मुताबिक कार्रवाई का आश्वासन दिया. लेकिन छात्रों ने लिखित आश्वासन की मांग की और धरने पर बैठे रहे. घंटों तक प्रदर्शन के दौरान मोनू यादव की तबियत बिगड़ गई. जिसके बाद उसे एम्बुलेंस से अस्पताल भेजा गया. विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों को कोर्ट के निर्णय अनुसार आगे की प्रक्रिया की सलाह दी, इसके बाद छात्रों ने अपना धरना खत्म किया. 

वीडियो वायरल के बाद DM ने की कांजी बड़े वाले बाबा की मदद, जुटने लगी भीड़

यूनिवर्सिटी ने कोर्ट में रखा अपना पक्ष- चीफ प्रॉक्टर

इस बाबत पूछे जाने पर यूनिवर्सिटी के चीफ प्रॉक्टर मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि कॉलेज को यूनिवर्सिटी से संबद्धता नहीं है. यूनिवर्सिटी छात्रों की परीक्षा नहीं करा सकता. चूंकि, छात्रों ने धरना दिया था. ऐसे में यूनिवर्सिटी ने अपना पक्ष कोर्ट में रखा है. कोर्ट ने छात्रों को प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा के समक्ष प्रत्यावेदन प्रस्तुत करने को कहा है. इसके बाद कोर्ट ने शासन को फैसला लेने के लिए एक सप्ताह का वक़्त दिया है.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें