डॉ दीप्ति अग्रवाल दहेज मृत्यु केस: ससुराली जन फरार, 2 साल की बेटी हो गई है अकेली

Smart News Team, Last updated: 18/09/2020 11:14 PM IST
डॉ दीप्ति मृत्यु केस में उनके ससुराल वाले फरार चल रहे हैं. उनकी पति भी फिलहाल जेल में है. ऐसे में उनकी 2 साल की बेटी इनाया अकेली रह गई है. बच्ची के नाना की मांग है कि बच्ची उन्हें दिलवाई जाए.
डॉ दीप्ति अग्रवाल ने 3 अगस्त को आत्महत्या का प्रयास किया था इसके बाद 6 अगस्त को उनकी मृत्यु हो गई.डॉ दीप्ति के पति डॉ सुमित अभी जेल में हैं.

आगरा. डॉ दीप्ति अग्रवाल दहेज मृत्यु केस ने पुलिस व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं. दरअसल इस केस में महिला डॉक्टर का पति तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया लेकिन महिला के अन्य ससुराली जन अभी तक फरार है. ऐसे में डॉ दीप्ति की 2 साल की बेटी इनाया बिल्कुल अकेली हो गई है.डॉ दीप्ति के पिता की मांग है कि उन्हें उनकी नवासी इनाया दिलाई जाए. उन्हें अपनी नवासी की बहुत चिंता सता रही है.

आपको बता दें कि विभव नगर के विभव वैली व्यू अपार्टमेंट में रहने वाली डॉक्टर दीप्ति अग्रवाल ने 3 अगस्त को आत्महत्या का प्रयास किया. इससे 6 अगस्त को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. महिला के पिता डॉ नरेश मंगला ने ससुराल वालों पर दहेज मृत्यु और गर्भपात की धारा के तहत मुकदमा दर्ज कराया था. इस संबंध में पुलिस ने 8 अगस्त को उनके पति डॉ सुमित अग्रवाल को जेल भेजा था.

आगरा: दहेज हत्या में डॉ. दीप्ति अग्रवाल के डॉक्टर पति सुमित गिफ्तार, जाएंगे जेल

गौरतलब है कि डॉ दीप्ति ने 2 साल पहले इनाया को गोद लिया था. डॉ दीप्ति ने अपने सुसाइड नोट में अपने पति को लिखा था कि उनकी बेटी इनाया का अच्छे से ख्याल रखना. अब डॉक्टर के पिता जेल में है जबकि अन्य ससुराली जन फरार है.

महिला डॉक्टर के पिता और कोसी के निवासी डॉ नरेश मंगला ने बताया कि बेटी के ससुर डॉक्टर एससी अग्रवाल, सास अनीता अग्रवाल, जेठ डॉक्टर अमित और जेठानी डॉक्टर तूलिका फरार है. डॉक्टर तूलिका अपने दोनों बच्चों को भी अपने साथ ले गई है. जबकि इनाया को उन्होंने एक रिश्तेदार के घर छोड़ दिया है.

आगरा में महिला की मौत, पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत, परिवार ने लगाया हत्या का आरोप

डॉ नरेश का कहना है कि बच्ची का ध्यान कौन रख रहा होगा वह सिर्फ 2 साल की है ऐसे में वे चाहते हैं कि बच्चे उन्हें दिलाई जाए. इसके अलावा उनका यह भी कहना है कि जिस घर में उनकी बेटी को मार डाला हो वहां उसकी बच्ची को कैसे छोड़ सकते हैं? डॉ नरेश ने यह भी कहा कि इस संबंध में वे शनिवार को अधिकारियों से मिलेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें