आगरा में धूल नहीं हुई नियंत्रित, तीन विभाग पर लगा 32-32 लाख का जुर्माना

Smart News Team, Last updated: Wed, 11th Nov 2020, 3:31 PM IST
  • यूपीसीबी ने आगरा में बढ़ते प्रदूषण को लेकर आगरा के जल निगम, आगरा स्मार्ट सिटी और आगरा विकास प्राधिकरण पर 32-32 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. बताया जा रहा है कि तीनों विभागों ने नोटिस के बाद भी धूल और प्रदूषण को नियंत्रित नहीं किया था.
आगरा में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है

आगरा: उत्तर प्रदेश के जिले आगरा में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. चारों तरफ कंस्ट्रक्शन का काम जारी है, ऐसे में निर्माण कार्यों से उड़ रही धूल को भी नियंत्रित नहीं किया जा रहा है. इसे लेकर

यूपीपीसीबी ने आगरा के जल निगम, आगरा स्मार्ट सिटी और आगरा विकास प्राधिकरण पर 32-32 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. बताया जा रहा है कि तीनों विभागों ने नोटिस के बाद भी धूल और प्रदूषण को नियंत्रित नहीं किया था. वहीं, क्षतिपूर्ति के रूप में यूपीसीबी तीनों विभागों से कुल मिलाकर 96 लाख रुपये की वसूली करेगा.

आगरा: किशोरी को सुपर्दगी में लेने के लिए भाइयों में तकरार, थाने में हुआ विवाद

इस बारे में बात करते हुए

यूपीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी भुवन प्रकाश यादव ने बताया कि जल निगम, स्मार्ट सिटी और एडीए को  लगातार धूल नियंत्रण के लिए नोटिस भेजा जा रहा था. लेकिन हर बार के निरीक्षण में धूल के गुबार उड़ते दिखाई दे रहे थे. वहीं, दूसरी और नोटिस के बाद पर्यावरण क्षतिपूर्ति के लिए तीनों विभागों को अगस्त से लेकर अब तक का जुर्माना अदा करना होगा. इसका पत्र लखनऊ मुख्यालय को पत्र भेज दिया है.

बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब धूल को लेकर विभागों पर जुर्माना लगाया गया हो. इससे पहले आगरा स्मार्ट सिटी के काम के दौरान धूल नियंत्रण के उपाय न मिलने पर भी नगर आयुक्त निखिल टीकाराम फुंडे ने आगरा स्मार्ट सिटी के ठेकेदारों पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया था. बता दें कि बढ़ते प्रदूषण के साथ धूल-मिट्टी के कणों का बुरा असर लोगों की सेहत पर पड़ रहा है. आगरा में बढ़ रहे प्रदूषण से लगातार अस्थमा के मरीजों में भी वृद्धि हो रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें