खेलते हुए भाई ने 3 साल के मासूम को ट्रेन के आगे फेंका, जान बचाने का Video वायरल

Smart News Team, Last updated: 23/09/2020 01:58 PM IST
  • पटरी के किनारे खेल-खेल में किशोर भाई ने मासूम को रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया. दूर से लोको पायलट ने देख कर जल्दी से इमरजेंसी ब्रेक लगाया. लेकिन इतने पर भी मासूम इंजन के पहियों के बीच फंस गया. 
खेल-खेल में भाई ने तीन साल के मासूम को ट्रेन के आगे फेंका दिया.

आगरा. मालगाड़ी के लोको पायलट की सूझबूझ से आगरा-नई दिल्ली रेलवे ट्रैक पर एक मासूम की जान बच गई. दरअसल मासूम को किशोर भाई ने खेल-खेल में ही रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया था. ऐसे में, लोको पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोका और बच्चे को सही सलामत निकाल कर उसकी मां को सौंप दिया. अब घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है और लोग लोको पायलट की तारीफ कर रहे हैं. इस घटना ने ‘जाको राखे साईंयां मार सके न कोय' कहावत को चरितार्थ कर दिया. 

जानकारी के मुताबिक नई दिल्ली की ओर से आ रही मालगाड़ी ने सोमवार को करीब 2 बजकर 33 मिनट पर बल्लभगढ़ पार किया ही था कि ट्रैक के नजदीक ही खेल रहे किशोर ने तीन साल के बच्चे को ट्रेन के सामने फेंक दिया. कुछ दूरी से ही मालगाड़ी के लोको पायलट दीवान सिंह और असिस्टेंट लोको पायलट अतुल आनंद यह देखकर घबरा गए. उन्होंने तुरंत संतुलन बनाते हुए ट्रेन में इमरजेंसी ब्रेक लगा दिया. 

बीटेक छात्र ने पिता की रिवॉल्वर से गोली मारकर की आत्महत्या, साइबर सेल करेगा जांच

इस तरह खंभा संख्या 1499/13 किमी पर मालगाड़ी रुक गई. जल्दी से लोको पायलट और असिस्टेंट लोको पायलट गाड़ी से उतरे. उन्होंने देखा की बच्चा इंजन के पहियों के बीच फंसा हुआ है. यह देखकर एक बार के लिए उनकी भी जान हलक में अटक गई. हालांकि बच्चे को इंजन के पहियों के बीच सुरक्षित देखकर उनकी जान में जान आई. लोको पायलट और असिस्टेंट लोको पायलट ने मिलकर बच्चे को सावधानी से इंजन के पहियों के बीच से निकाला. यह नजारा देखकर रो रही उसकी मां को उन्होंने बच्चा सुपुर्द कर दिया.

फेस्टिवल सीजन शुरू, दो महीने बाद की ट्रेन टिकट वेटिंग लिस्ट 150 तक पहुंची

इस घटना की जानकारी लोको पायलट ने आगरा छावनी स्टेशन पर उत्तर मध्य रेलवे के वरिष्ठ मंडल विद्युत अभियंता को दी. दूसरी तरफ घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. लोग लोको पायलट के सूझबूझ की तारीफ करने लगे. इस मामले में सीनियर डीसीएम और पीआरओ संजीव श्रीवास्तव ने कहा कि लोको पायलट ने रेलवे का मान बढ़ाया है. उनके काम की जितनी तारीफ की जाए वो कम है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें