भीख मांगने के लिए हाथी को किया अंधा, चुरमुरा हाथी संरक्षण केंद्र हो रहा उपचार

Smart News Team, Last updated: 10/10/2020 01:09 PM IST
  • आगरा के पास देश के इकलौते हाथियों के अस्पताल में एक 55 वर्षीय हाथी को लाया गया है, जिसकी आंख पर किसी नुकीली चीज से चोट की गई है. बताया जा रहा है कि हाथी की आंख पर वार करने का कारण भीख मांगना था.
आगरा में भीक मँगने के लिए एक हांथी को अँधा क्र दिया गया

आगरा के पास जानवर के साथ एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. दरअसल, आगरा के पास स्थित चुरमुरा हाथी संरक्षण केंद्र में शुक्रवार को एक हाथी लाया गया, जिसकी उम्र करीब 55 साल है. हैरान करने वाली बात तो यह है कि भीख मांगने के लिए इसका इस्तेमाल किया गया और उसकी आंखों में नुकीली चीजों से वार कर उसे अंधा भी कर दिया गया. इलाज के लिए लाये गए इस हाथी का नाम आर्य है और चुरमुरा हाथी संरक्षण केंद्र में ही इसका उपचार जारी है.

रिपोर्ट के मुताबिक आर्य नाम के हाथी को वन विभाग की टीम चुरमुरा हाथी संरक्षण केंद्र लाई है. आंखो में चोट होने के कारण उसे दिखाई नहीं दे रहा है. ऐसे में हाथी को लेजर थेरेपी, हाइड्रोथेरेपी दी जा रही है. आंख में चोट के अलावा आर्य गठिया के रोग से भी पीड़ित है. हाथी के चेकअप के दौरान खुद चिकित्सक भी इस बात से हैरान रह गए कि उनकी बाईं आंखो में नुकीली चीज से चोट पहुंचाई गई है.

आगरा के चूड़ी गोदाम में चोरी, 22 हजार नकदी के साथ एटीएम कार्ड भी ले गए चोर

 इस बारे में बात करते हुए एसओएस के उप निदेशक डॉ. इलया राजा ने कहा कि आर्य गंभीर रूप से कुपोषित और अन्य कई समस्याओं से पीड़ित है. अगले कुछ दिन उसके लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं. हमारी टीम उसके स्वास्थ्य की प्रगति पर नजर रखे हुए है. 

संस्था की सचिव गीता शेषमणि ने हाथी के जल्द से जल्द ठीक होने की कामना जताई है. उन्होंने कहा कि नेत्रहीन हाथी आर्य को उपचार का ठिकाना मिल गया है और ऐसे में उम्मीद हैं कि उसकी आंखें जल्द ही ठीक हो जाएंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें