आगरा: पिता ने नहीं भरी डिलीवरी फीस तो डॉक्टर ने मां से छीन नवजात को बेचा

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 11:04 AM IST
  • आगरा में इंसानियत को शर्मसार करते हुए एक डॉक्टर ने नवजात को मां से छीनकर बेच दिया क्योंकि नवजात का पिता डिलीवरी फीस नहीं भर सका. आगरा के जेपी अस्पताल के डॉक्टर ने रिक्शेवाले से उसका नवजात छीनकर बेच दिया.
आगरा: पिता ने नहीं भरी डिलीवरी फीस तो डॉक्टर ने मां से छीन नवजात को बेचा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा. कोरोना काल में जहां डॉक्टरों की वाह-वाही हो रही है वहीं आगरा में एक डॉक्टर की दरिंदगी दिखी. इंसानियत को शर्मसार करते हुए एक डॉक्टर ने महिला से उसका नवजात छीनकर बेच दिया क्योंकि नवजात का पिता डिलीवरी की फीस नहीं चुका पाया. घटना के बाद अस्पताल को सील कर दिया गया है और नवजात का पता लगाया जा रहा है. कहा जा रहा है कि डॉक्टर ने अपने ही किसी रिश्तेदार को बच्चे को बेचा है. वहीं नवजात की मां ने बच्चे को नुकसान पहुंचने के डर से पुलिस में शिकायत नहीं की है.

जानकारी के अनुसार शंभु नगर निवासी शिव नारायण रिक्शा चालक है जो बेहद कर्ज में है. 24 अगस्त को उसकी पत्नी बबिता को प्रसव पीड़ा होने पर उसने पास के जेपी अस्पताल में उसे भर्ती कराया. बबिता ने बेटे को जन्म दिया लेकिन शिव नारायण डिलीवरी की फीस भर नहीं पया. अस्पताल ने 30,000 रुपये का बिल दिया जो ना भर पाने के कारण डॉक्टर ने मां से उसका नवजात छीन लिया. एक कागज पर अंगूठा लगवा लिया. महिला बिलखती और गिड़गिड़ाती रही लेकिन डॉक्टर नहीं माना और बच्चे को ले गया. 

आगरा: कोरोना की वैक्सीन में देरी, 700 लोगों पर होने वाला कोवैक्सीन का ट्रायल टला

 महिला का आरोप है कि जबरन कुछ पैसे पकड़ाकर एक कागज पर अंगूठे का निशान ले लिया और अस्पताल से भगा दिया. इसकी जानकारी शिवनारायण ने समाजसेवी नरेश पारस को दी. मामले की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी गई. सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अस्पताल पर कार्रवाई करते हुए उस पर सील लगा दी.

आगरा में बड़े परिवारों की बहुएं सबसे ज़्यादा करती हैं अपनी सासों का उत्पीड़न

मामला दो दिन से संज्ञान में आने के बाद भी एफआईआर अभी तक ना होने से मामला संदिग्ध माना जा रहा है. वहीं दो दिन से आरोपी डॉक्टर भी नहीं मिल रहा है. जिससे संभावना जताई जा रही है कि अस्पताल पहले भी इस तरह की हरकतें कर चुका है. मामले में आगे जांच की जा रही है और बच्चे की तलाश भी जारी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें