आगरा में चालान के नाम पर व्यापारी के साथ की अभद्रता, 5 सिपाही हुए लाइन हाजिर

Smart News Team, Last updated: Tue, 18th May 2021, 1:01 PM IST
आगरा के पुलिस के पांच सिपाहियों पर आइसक्रीम डीलर व्यापारी से चालान काटने के नाम पर अभद्रता करने के आरोप में और 70000 हजार रुपए की वसूली के मामले में सभी सिपाहियों को रविवार को लाइन हाजिर कर दिया गया है. सभी सिपाहियों पर अभद्रता का आरोप सही पाया गया है लेकिन 70 हजार वसूली के आरोपों की जांच हो रही है.
आगरा पुलिस के पांच सिपाहियों को लाइन हाजिर किया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

आगरा. बोदला निवासी व्यापारी अनूप अग्रवाल उर्फ मोनू के साथ अभद्रता करने और उनसे 70 हजार रुपये डरा-धमकाकर वसूलने के आरोप में 5 सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है. इन सिपाहियों पर व्यापारी अनुप ने आरोप लगाया है कि 13 मई को रात 9 बजे जब वे फर्म के बाहर अपने तीन दोस्तों के साथ कार में बैठे थे. तभी पांच सिपाही अपनी निजी कार में सवार होकर आए और उनका बिना मास्क का चालान करने के साथ रुपये भी वसूल लिए. जिसके बाद सीओ की जांच में पांचों सिपाही बिना सक्षम अधिकारी के कोविड प्रोटोकॉल के उल्लंघन का चालान काटने और अभद्रता करने के दोषी पाए गए.

अनूप अग्रवाल आगरा में कोतवाली के हींग की मंडी स्थित आइसक्रीम कंपनी के डीलर है. उनका कोतवाली क्षेत्र के सेठ गली के पास फर्म है. जहां वे 13 मई को अपने दोस्तों के साथ कार में बैठे थे. अनूप ने अपनी शिकायत में कहा है कि निजी कार में सवार होकर आए सिपाहियों ने चारों को काफी डांटा और चालान कर दिया. इसके बाद सेब का बाजार चौकी ले जाकर उन्हें सट्टे के केस में फंसाने की धमकी देकर 70 हजार रुपए छीन लिए.

आगरा: कॉन्वेंट स्कूल की ऑनलाइन क्लासेज 20 मई से शुरू, टीचर करेंगे वर्क फ्रॉम होम

इस मामले में एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने जांच के आदेश दिए. सीओ कोतवाली दिनेश कुमार सिंह के अनुसार प्रारंभिक जांच में यह पुष्टि हुई है कि प्राइवेट वाहन से सिपाही व्यापारी और उनके तीनों दोस्तों को लेकर सेब का बाजार चौकी आए थे और कोविड उल्लंघन के लिए उनका 200-200 रुपये का चालान किया. इसके अलावा सिपाहियों पर सक्षम अधिकारी चौकी प्रभारी एसआई और निरीक्षक को सूचना दिए बिना कार्य करने और पीड़ित पर महामारी एक्ट के उल्लघंन का चालान काटने के आरोप सिद्ध होने पर उन्हें लाइन हाजिर कर दिया गया.

UP के किसान व्हॉट्सएप के जरिए ले सकते हैं मदद, खेती में हुई परेशानी का मिलेगा हल

पुलिस लाइन भेजे गए सिपाहियों में यादवेंद्र सिंह, हरीश कुमार, अश्वनी कुमार, शैलेंद्र कुमार और अभय प्रताप शामिल हैं. हालांकि अभी पैसे के लेनदेन के सबूत नहीं मिले हैं. लेकिन पुलिस को आरोप लगाने वाले व्यापारी के गलत कार्यों से जुड़े होने का शक है. फिलहाल एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने मामले की जांच पूरी होने पर सही जानकारी देने को कहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें