आगरा: पानी के लिए 100 घंटे से भूख पर हड़ताल पर बैठे युवकों की हालत बिगड़ी

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 4th Dec 2021, 11:37 AM IST
  • आगरा के दयालबाग समेत 34 कॉलोनियों में पानी दिलाने के युवा दो दिनों से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठे हैं. जिनमें दो युवकों की शुक्रवार को हालत बिगड़ने लगी है. लोगों ने पानी की व्यवस्था को लेकर दो दिन के अंदर काम शुरू नहीं होने पर कलेक्ट्रेट का घेराव करने की चेतावनी भी दी है. 
आगरा के दयालबाग समेत 34 कॉलोनियों में पानी के लिए दो दिनों से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठे हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

आगरा. शहर के दयालबाग समेत 34 कॉलोनियों में पानी दिलाने के युवा दो दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे हैं.  अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठे युवकों को शुक्रवार को हालत बिगड़ने लगी है.  अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल में शमील सौरभ चौधरी और सत्यवीर चौधरी का ब्लड प्रेशर गिरना शुरू हो गया जिसके कारण उन्हें कमजोरी के साथ अन्य परेशानियां भी शुरू हो गई. जानकारी मिलते ही क्षेत्र के पुलिस चौकी इंचार्ज दोनों युवकों को समझाने के लिए पहुंचे. उन्होंने दोनों की बात जलकल तथा जलनिगम अधिकारियों से कारवाई. लेकिन दोनों युवा ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि जब तक पाइप लाइन बिछाने का काम शुरू नहीं हो जाता, तब तक वह भूख हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. 

क्षेत्र के बाकी लोग भी हड़ताल स्थल पर पहुंचकर अपना समर्थन दे रहे हैं. इसी क्रम में शुक्रवार दोपहर को स्कूली छात्रों ने भी वहां पहुँचकर अपना समर्थन दिया. छात्रों के बाद क्षेत्र की महिला भी वहां पहुंच कर अपना समर्थन दिया. दोनों युवकों को समझने पहुंचे क्षेत्र के पुलिस चौकी इंचार्ज को महिलाओं ने कहा कि अगर जबरन धरने से उठाया गया तो ईंट से ईंट बजा देंगे. हड़ताल पर बैठे लोगों ने पानी की व्यवस्था को लेकर दो दिन के अंदर काम शुरू नहीं होने पर कलेक्ट्रेट का घेराव करने की चेतावनी भी दी है. 

मासूम की हत्या केस में पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग, हत्यारे जल्द होंगे गिरफ्तार

हड़ताल पर बैठे लोगों का आरोप है कि दयालबाग समेत 34 कॉलोनियों में पानी नहीं आ रहा है. भूख हड़ताल पर बैठे नगला हवेली सौरभ चौधरी अनुसार पूछे जाने पर जलनिगम के अधिकारी लगातार झूठ बोल रहे हैं. जलनिगम के अधिकारी ने पहले बताया था कि दिवाली के बाद पाइप आ जाएंगे, लेकिन अब होली पर आने की कह रहे हैं. एक साल से केवल आश्वासन दे रहे, पाइप नहीं बिछा रहे.  

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें