फर्जी कैंप लगाकर भरवाए लोगों से सरकारी योजना के फॉर्म, आरोपी गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 07:32 AM IST
  • आगरा में सरकारी योजनाओं के फर्जी फॉर्म भरवाने का मामला सामने आया है. शख्स लोगों से फॉर्म भरवाकर उनसे 200 रुपये की वसूली कर रहा था. हालांकि, भीम नगर के क्षेत्रीय पार्षद ने शुक्रवार को फर्जी फॉर्म भरवाने वाले शख्स को गिरफ्तार करा दिया है.
अगरा में भरवाए जा रहे थे सरकारी योजनाओं के फ़र्ज़ी फॉर्म

आगरा: आगरा में आए दिन ठगी का मामला सामने आ रहा है. हाल ही में आगरा में सरकारी योजनाओं के फर्जी फॉर्म भरवाने का मामला सामने आया है. हालांकि, भीम नगर के क्षेत्रीय पार्षद ने शुक्रवार को फर्जी फॉर्म भरवाने वाले शख्स को गिरफ्तार करा दिया है. बताया जा रहा है कि शख्स लोगों से फर्जी फॉर्म भरवाकर उनसे करीब 200 रुपये भी ले रहा था.

शख्स फर्जी कैंप लगाकर प्रधानमंत्री आवास और स्वनिधि योजना समेत अन्य सरकारी योजनाओं के नाम पर मलिन बस्ती में लोगों से फॉर्म भरवा रहा था और उनसे दो सौ रुपये भी ले रहा था. ऐसे में जब क्षेत्रीय पार्षद ने इस बारे में शख्स से पूछा तो वह खुद को नगर निगम का कर्मचारी बताकर रौब झाड़ने लगा. लेकिन किसी भी अधिकारी से बात न कराने पर क्षेत्रीय पार्षद ने पुलिस बुलवा ली, जिसके बाद शख्स को जगदीशपुरा थाना ले जाया गया.

आगरा वासियों को रेलवे का तोहफा, ताजनगरी से 12 ट्रेनों को मिली मंजूरी

जिला नगरीय विकास अभिकरण (डूडा) द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना और स्वनिधि योजना समेत कई योजनाएं चलाई जा रही हैं. वहीं, मलिन बस्तियों में इन योजनाओं के नाम पर लोगों से फर्जी फॉर्म भरवा कर 200 रुपये तक लिये जा रहे थे. जब स्थानीय लोगों ने पार्षद को खबर दी तो उन्होंने पता लगाया कि डूडा की तरफ से ऐसा कोई भी कैंप भीम नगर में नहीं लगाया गया है और फर्जी कैंप के जरिए केवल लोगों को ठगा जा रहा है. 

हनी ट्रैप में फंसा वायुसेना अधिकारी, फेसबुक पर अश्लील चैट कर किया ब्लैकमेल

फर्जी कैंप के बारे में बात करते हुए पार्षद अर्पित सारस्वत ने कहा कि जिन बस्तियों में अशिक्षित लोग हैं वह सरकारी योजनाओं का फायदा लेना चाहते हैं. ऐसे में कई बार फर्जी कैंप लगाकर वसूली करने की शिकायतें सामने आई हैं. इस मामले को लेकर पार्षद ने लोगों से इन सबमें न फंसने की अपील की, साथ ही ऐसे कैंप मिलने पर उन्हें जानकारी देने की भी बात कही.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें