डिग्री, और स्टाफ के बगैर चल रहा था हॉस्पिटल, स्वास्थ्य विभाग ने किया सील

Smart News Team, Last updated: 23/02/2021 03:31 PM IST
  • आगरा में झोलाछाप डॉक्टर डिग्री, स्टाफ और रजिस्ट्रेशन के अभाव में हॉस्पिटल चला रहा था, जिसे स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापा मारकर सील कर दिया है.
डिग्री, और स्टाफ के बगैर चल रहा था हॉस्पिटल, स्वास्थ्य विभाग ने किया सील (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा में झोलाछाप डॉक्टर द्वारा डिग्री, स्टाफ और रजिस्ट्रेशन के अभाव में हॉस्पिटल चलाने का मामला सामने आया है. ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अस्पताल पर छापा मारकर उसे सील कर दिया है. हॉस्पिटल का नाम लाइफकेयर हॉस्पिटल एंड ट्रॉमा सेंटर बताया जा रहा है, जो कि शहीद नगर में स्थित है. बताया जा रहा है कि झोलाछाप डॉक्टर आठ मरीजों का इलाज कर रहा था, जिसे स्वास्थ्य विभाग ने पकड़ लिया है और हॉस्पिटल तक को सील कर दिया है. इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने एसएस हॉस्पिटल और पुष्पानुज नर्सिंग होम में भी मरीजों को भर्ती करने पर रोक लगा दी है.

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शहीद नगर पुलिस चौकी के पास स्थित लाइफकेयर हास्पिटल एंड ट्रामा सेंटर पर छापा मारा. यहां बच्चे सहित आठ मरीज भर्ती मिले और इनमें ही शामिल कुछ मरीज पेट दर्द और बुखार के कारण ड्रिप लगाकर बैठे हुए थे. बताया जा रहा है कि इनका इलाज झोलाछाप राशिद कर रहा था. डॉक्टर के बारे में नोडल अधिकारी डा. नंदन सिंह ने बताया कि राशिद के पास कोई डिग्री नहीं दिखी, साथ ही हास्पिटल का पंजीकरण भी नहीं था. वहीं, दूसरी और हॉस्पिटल में कोई पैरामेडिकल स्टाफ भी नहीं था. इसके साथ ही बायोमेडिकल वेस्ट भी वहां पर बिखरा पड़ा था. ऐसे में कार्रवाई करते हुए मरीजों को शिफ्ट कर हास्पिटल सील कर दिया गया है.

सूदखोरों के खिलाफ SSP ने शुरू किया अभियान, अब होगी कड़ी कार्रवाई

टीम ने एसएस हास्पिटल, शहीद नगर का निरीक्षण किया. यहां मरीज भर्ती मिले. इस जगह का पंजीकरण क्लीनिक के नाम पर किया गया था. यहां मरीज भर्ती करने पर रोक लगा दी गई है. वहीं, दूसरी और पुष्पानुज नर्सिंग होम, कहरई मोड़ के संचालक ने टीम को जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी कार्यालय में पंजीकरण होने की जानकारी दी.

रक्तदान करने वाले 5393 लोगों में से 112 लोग निकल गंभीर रूप से बीमार

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें