कोरोना काल में कमाई घटते ही रेलवे ने खर्चों में शुरू की कटौती, इन पर गिरेगी गाज

Smart News Team, Last updated: Tue, 23rd Jun 2020, 2:40 PM IST
  • कोरोना लॉकडाउन में रेलवे की कमाई 50 फीसदी से भी कम हो गई है। कमाई पर असर पड़ते ही रेलवे ने भी खर्चों में कटौती शुरू कर दी है। रेलवे ने रिटायर्ड रेल अधिकारियों को वापस रखने के आदेश पर रोक लगा दी है।
Indian Railway Train (File Photo)

कोरोना लॉकडाउन में रेलवे की कमाई 50 फीसदी से भी कम हो गई है। कमाई पर असर पड़ते ही रेलवे ने भी खर्चों में कटौती शुरू कर दी है। रेलवे ने रिटायर्ड रेल अधिकारियों को वापस रखने के आदेश पर रोक लगा दी है। रिटायर्ड कर्मचारियों को भी जल्द हटाने की तैयारी है। इसके साथ ही ऑफिस का ज्यादातर काम डिजिटल प्लेटफार्म पर करने के आदेश भी दिए गए हैं।

24 मार्च की आधी रात से रेलवे की नियमित ट्रेनें बंद हैं। 12 मई से चुनिंदा एसी स्पेशल और एक जून से 200 स्पेशल ट्रेनों के अलावा कोई ट्रेन नहीं चल रही हैं। सभी नियमित ट्रेन 30 जून तक निलंबित हैं। रेलवे के सूत्रों का कहना है कि इस वजह से रेलवे की कमाई 58 प्रतिशत तक कम हो गई है। कमाई कम होते ही रेलवे ने भी अपने खर्चों में कटौती शुरू कर दी है। पूर्व में रखे गए रिटायर्ड रेल अधिकारियों को हटा दिया गया है। 

आगरा मंडल में 200 से अधिक रिटायर अधिकारी/कर्मचारी तैनात हैं। इनकी जगह रेलवे आउटसोर्स कंपनियों के माध्यम से कम वेतन वाले कर्मचारी रखेगी। इसके साथ रेलवे ने स्टेशनरी के खर्च में भी कटौती के आदेश दिए हैं। सभी रेलवे जोन को जारी आदेश में ऑफिस के ज्यादातर काम फाइलों के बजाए कंप्यूटर में सेव करके रखने को कहा गया है। केवल बहुत जरूरी स्टेशनरी का सामान ही खरीदने को कहा गया है। साथ ही रेलवे जोनों से गैर जरूरी खर्च घटाने को भी कहा गया है।

रेलवे के पीआरओ एसके श्रीवास्तव ने कहा कि लॉकडाउन में रेलवे की कमाई बहुत घट गई है। खर्चों में मितव्ययता अपनाना समय का तकाजा है। रेलवे बोर्ड के आदेश का पालन कराया जा रहा है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें