पुलिस ने IPL पर सट्टा लगाने वालों की पकड़ी बारात, शहर में 500 से ज्यादा सट्टेबाज

Smart News Team, Last updated: 04/11/2020 12:09 AM IST
आगरा कि क्राइम ब्रांच में एक बंद पड़े स्कूल पर दबिश देकर 13 सट्टेबाजों को पकड़ा. जहाँ पर पकड़ा गया बुकी 60 वर्षीय निकला. शहर के सभी सट्टेबाज दिल्ली के बुकी के सम्पर्क में रहकर ये काम करते है.
पुलिस दबिश में पकडे़ गए सट्टेबाज

आईपीएल के प्रत्येक मैच में आगरा में बेहद बड़े देव खेले जा रहे थे। शहर के सभी चर्चित सट्टे बबाज वहां से बाहर रहकर इसे ऑपरेट कर रहे थे. सोमवार को पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बंद स्कूल में दबिश देकर 13 सट्टेबाजों को पकड़ा है. उनके पास से पुलिस ने आठ लाख तक का कैश जब्त किया है. संचालित करने वाला बुकी की उम्र 60 वर्ष है. पुलिस ने उनपर करवाई करते हुए सभी को जेल भेज दिया.

सस्तेबाजो को पकड़ने वाले एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सभी सट्टेबाज दिल्ली के किसी बुकी के सम्पर्क में थे. हिरासत में लिए गए 60 वर्षीय हरिओम का बीटा दिल्ली में ही रहता और वह उस बुकी के सम्पर्क में है. एसएसपी ने आगे बताया कि दिल्ली के बुकी को पकड़ने के लिए सर्विलांस टीम को सक्रिय कर दिया गया है. उस बुकी के खिलाफ भी उचित कार्यवाई किया जाएगा. सभी सस्तेबाजो को राजेंद्र नगर के एक बंद स्कूल से पकड़ा गया है.

आगरा में जाली नोटों के दो अंतरराष्ट्रीय तस्कर गिरफ्तार, पूछताछ है जारी

पुलिस के गिरफ्त में लिए सटोरियों को पुलिस ने जेल भेज दिया जिसमे रोहित सिंह निवासी प्रेम नगर राजपुर चुंगी, भानू उपाध्याय, श्याम सुंदर उपाध्याय निवासी बगदा ताजगंज, अरुण कुमार निवासी रोहित एन्क्लेव राजपुर चुंगी, पवन कुमार निवासी वाजिदपुर फतेहाबाद, सोनवीर, आशीष कटारा निवासी एकता चौकी क्षेत्र, अजय निवासी कहरई ताजगंज, दुर्गेश,सत्यार्थ उर्फ सोनू यादव निवासी बरौली अहीर, राजेंद्र सिंह निवासी कस्तूरी विहार बरौली अहीर शामिल थे. पुलिस की रेड के दौरान बड़ा उखर्रा सदर निवासी मोनू पंडित व छोटा उखर्रा निवासी दीपक मौके से फरार हो गए थे. जिन्हे पुलिस तलाश रही है.

जाली नोटों की बड़ी खेप यमुना एक्सप्रेस-वे से हुई बरामद, तस्कर गिरफ्तार

पुलिस के गिरफ्त में आरोपियों ने बताया कि आगरा में करीब 500 सट्टेबाज रहते है. शहर के जितने भी बुकी है वह आईपीएल शुरू होने से पहले ही बाहर चले गए और वह वहीं से इसे ऑपरेट करते है. सभी बुकियों के रिकवरी अजेंड शहर में रहते है. वह जो जीतते है उनको पैसे देने जाते है और जो हारता है उससे वसूली करने जाते है.

 

दोपहर 12 बजे तक बिक गए ताजमहल के सभी टिकट, पर्यटक लौटे मायूस

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें