अनलॉक के बाद भी काम नहीं, बेरोजगारी से परेशान 23 वर्षीय मजदूर ने लगाई फांसी

Smart News Team, Last updated: 14/09/2020 01:21 PM IST
  • आगरा में सात दिन से काम नहीं मिलने के कारण 23 वर्षीय मजदूर ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी. आर्थिक तंगी से परेशान युवक हर दिन घर से काम के लिए निकलता था लेकिन निराश होकर वापस लौटता था.
आगरा के 23 वर्षीय मजदूर ने बेरोजगारी से परेशान होकर फांसी लगाई.

आगरा. ताजनगरी में सात दिन से काम नहीं मिलने के कारण एक मजदूर ने अपनी जान दे दी. शहर में अनलॉक के बाद भी लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है. रविवार की रात आगरा के एत्मादुद्दौला की बघेल बस्ती में आर्थिक तंगी से परेशान मजूदर फांसी से झूल गया. वह एक सप्ताह से रोजगार के लिए परेशान था.

पुलिस को जानकारी मिली की बघेल बस्ती में 23 वर्षीय कन्हैया फंदे से लटका मिला है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव की जांच की और सिर्फ पंचनामा भरकर लौटा दिया गया जानकारी के अनुसार घर में कोहराम मचा हुआ था. युवक की मां मीरा सदमे मे थी. मृतक की मां ने बताया कि सुबह छह बजे कन्हैया का शव फंदे से लटका देखा था. बेटे ने अंगोछे का फंदे से फांसी लगाई थी. पड़ोसियों ने बताया कि कन्हैया के चार भाई थे. पिता छोटेलाल भी मजदूर हैं. 

आगरा: साइबर ठगों की फर्जी ट्रांसपोर्ट कंपनी पर ताला, चार और सदस्य गिरफ्तार

मृतक कन्हैया के पिता काम की तालाश में पिछले दिनों राजस्थान चले गए. दो बेटों ने रोजगार के लिए दिल्ली की तरफ रुख कर लिया. कन्हैया और छोटा भाई आगरा में अपनी मां के पास रह गए थे. घर चलाने की जिम्मेदारी कन्हैया के पास थी. वह आर्थिक तंगी से काफी परेशान था. हर दिन काम के लिए निकलता था लेकिन निराश होकर लौटता था. 

उपदेश हत्याकांड: दो और गिरफ्तारी,जांच में लापरवाही बरतने के आरोप में SHO सस्पेंड

एत्मादुद्दौला उदयवीर मलिक ने कहा कि परिवार वाले शव का पोस्टमार्टम नहीं चाहते थे. पुलिस ने परिवार की बात मान ली और सिर्फ पंचनामा भरा गया. शव को परिवार को सौंप दिया गया. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें