पितृपक्ष के अंतिम दिन लोगों ने किया पूर्वजों को याद, यमुना में भारी संख्या में लोग तपर्ण करते आए नजर

Somya Sri, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 10:21 AM IST
  • आज पितृपक्ष का अंतिम दिन है. पितृपक्ष के अंतिम दिन को सर्व पितृ अमावस्या कहते हैं. इस दिन वे लोग जिन्हें अपने पितरों की मृत्यु की तिथि मालूम नहीं होती है. वह आज के दिन ही पितरों के लिए पिंडदान, तर्पण और श्राद्ध करते हैं. सर्व पितृ अमावस्या के मौके पर देशभर के तमाम घाटों पर लोग अपने अपने पितरों को याद कर रहे हैं. इस बीच आगरा के ताजमहल गेट के पूर्वी गेट के पास दशहरा घाट पर भारी संख्या में लोग अपने पूर्वजों को याद करते दिखे. हालांकि कुछ वर्षों से यहां पर किसी भी गतिविधि पर रोक थी. लेकिन, इस साल अनुमति मिलने के बाद भारी संख्या में लोग यमुना में उतर कर तर्पण करते हुए नजर आए. 
ताजमहल के पूर्वी गेट के पास दशहरा घाट पर भारी संख्या में लोग अपने पूर्वजों को याद करते दिखे.
ताजमहल के पूर्वी गेट के पास दशहरा घाट पर भारी संख्या में लोग अपने पूर्वजों को याद करते दिखे.
सर्व पितृ अमावस्या के मौके पर लोगों की जुटी भारी भीड़
यमुना की बदहाली स्तिथि को देखते हुए लोग कुएं और नल से नहाते दिखे.
सर्व पितृ अमावस्या के मौके पर अपने पितरों को याद करते लोग व यमुना में नहाते लोग
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें