आगरा धर्मांतरण केस: पुलिस ने कासिम कुरैशी के माता-पिता समेत 5 को जेल भेजा

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Jul 2021, 10:47 PM IST
  • कासिम कुरैशी से विक्की यादव बना युवक फरार है. शनिवार को पुलिस ने आरोपित के माता-पिता, बहन और दो भाइयों को जेल भेज दिया. पुलिस ने यह कार्रवाई दुराचार, पोक्सो और धर्मांतरण अधिनियम के तहत की है.
शनिवार को पुलिस ने आरोपित के माता-पिता, बहन और दो भाइयों को जेल भेज दिया.

आगरा. कासिम कुरैशी से विक्की यादव बना युवक फरार है. शनिवार को पुलिस ने आरोपित के माता-पिता, बहन और दो भाइयों को जेल भेज दिया. पुलिस ने यह कार्रवाई दुराचार, पोक्सो और धर्मांतरण अधिनियम के तहत की है. घटना के बाद से ही लोगों में आक्रोश है. आक्रोशित लोगों की मांग है कि नाबालिग छात्रा को गुमराह करके धर्मांतरण कराने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.

15 जून को आजाद नगर, खंदारी इलाके से एक छात्रा लापता हुई थी. पंद्रह दिन बाद छात्रा वापस लौटी. पीडि़ता के पिता दहशत में थे. पीड़िता के पिता को डराया धमकाया गया. नसीराबाद मऊ रोड निवासी कासिम कुरैशी ने विक्की यादव बनाकर छात्रा से दोस्ती की थी. आरोपित की बहन भी अपना नाम बदलकर उससे मिला करती थी. तहरीर के आधार पर पुलिस ने आरोपित कासिम कुरैशी, उसके पिता रईसउद्दीन, मां रुखसार, बहन सोनम कुरैशी, भाई शकील व कामिल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था.

लकड़ियों पर बनाई गई थी ताजमहल की इमारत, 15 वर्षों में तैयार हुआ था सिर्फ गुंबद

इंस्पेक्टर हरीपर्वत अरविंद कुमार ने बताया कि पांच आरोपित रईसउद्दीन, रुखसार, सोनम कुरैशी, शकील व कामिल को पकड़ा गया था. सभी को जेल भेज दिया गया. मुख्य आरोपित कासिम कुरैशी और धर्म परिवर्तन कराने वाला मौलवी फरार हैं. कासिम की गिरफ्तारी के बाद मौलवी के बारे में जानकारी मिलेगी. फिलहाल छात्रा का मेडिकल कराया गया है. कोर्ट में उसके बयान दर्ज कराए जाएंगे. दुराचार की पुष्टि के लिए उसकी मेडिकल रिपोर्ट ठोस साक्ष्य है. पुलिस रिकार्ड के मुताबिक, धर्मांतरण कानून के तहत ताजनगरी में यह तीसरा मुकदमा दर्ज किया गया है. इससे पहले न्यू आगरा और ताजगंज थाने में भी इस धारा के तहत आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें