हाथी पर बैठकर योग करने पर बाबा रामदेव को कानूनी नोटिस, सात दिन में मांगा जवाब

Smart News Team, Last updated: 15/10/2020 09:56 PM IST
  • संयुक्त रुप से भेजे गए नोटिस में कहा बाबा रामदेव का यह कार्य वन्यजीवों के प्रति संवेदनहीनता को दर्शाता है. यह कृत्य बेजुबान जानवर को मानसिक वेदना तो पहुंचता है साथ की जानवरों पर अत्याचार करने वालों को प्रेरित भी करता है.
बाबा रामदेव के खिलाफ कानूनी नोटिस

आगरा. योग गुरु बाबा रामदेव के हाथी पर बैठकर योग करने के मामले पर अधिवक्ताओं ने बाबा रामदेव को नोटिस भेजा है. आगरा के पाँच अधिवक्ताओं ने पंतजलि योग पीठ के योगगुरु बाबा रामदेव उर्फ रामकृष्ण यादव, इंडिया टीवी, हाथी रेसक्यू सेंटर चुरमुरा घड़ी के डायरेक्टर को यह नोटिस भेजा है. इन तीनों का वन्यजीव संरक्षण अधिनियत के आरोप में नोटिस भेजा गया है. साथ ही सात दिन के भीतर जबाव देने को कहा है और जवाब न देने पर कानूनी कार्रवाई करने की बात कही गई है.

अधिवक्ता नरेंद्र शर्मा, एसपी भारद्वाज, गगन शर्मा, राखी चौहान व राजवीर सिंह ने संयुक्त रुप से भेजे गए नोटिस में कहा बाबा रामदेव का यह कार्य वन्यजीवों के प्रति संवेदनहीनता को दर्शाता है. यह कृत्य बेजुबान जानवर को मानसिक वेदना तो पहुंचता है साथ की जानवरों पर अत्याचार करने वालों को प्रेरित भी करता है. भारत सरकार ने ऐसी गतिविधियों को पहले ही प्रतिबंधित किया हुआ है. इसमें भारत सरकार की तरफ से कड़ी सजा के साथ प्रतिबंध का भी प्रावधान है.

VIDEO: मथुरा के आश्रम में हाथी पर योग करते हुए नीचे गिर पड़े बाबा रामदेव

साथ ही टीवी चैनलों पर आरोप है कि इन चैनलों ने भी जानवरों के प्रति इस तरह के रवैये को लेकर कोई संदेश नहीं दिया गया. रेसक्यू सेंटर पर भी आरोप लगाया है कि उन्होने ने भी ऐसा कोई अपने दायित्वों के प्रति ईमानदारी नहीं दिखाई है. 11000 रुपये नोटिस फीस और सात दिनों में जवाब न देने पर कानूनन कार्रवाई करने के बारे में भी लिखा है. आपको बता दें कि 13 अक्तूबर 2020 को बाबा रामदेव योग करते हुए हाथी से गिर गए थे जो कि सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें