44 घंटे प्रदर्शन के बाद मिली अनुमति, मेधा पाटकर संग दिल्ली की ओर बढ़े किसान

Smart News Team, Last updated: 28/11/2020 01:52 PM IST
  • कृषि बिल विधेयक के विरोध में मेधा पाटकर संग 500 किसानों ने ग्वालियर रोड स्थित आगरा-धौलपुर पर धरना दिया हुआ था. लेकिन 44 घंटे तक लगातार धरना प्रदर्शन करने के बाद अब किसानों और सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने शाम पांच बजे दिल्ली कूच किया.
44 घंटे बाद मिली प्रशासन से मंज़ूरी

 आगरा: कृषि बिल विधेयक के विरोध में मेधा पाटकर संग 500 किसानों ने ग्वालियर रोड स्थित आगरा-धौलपुर पर धरना दिया हुआ था. लेकिन 44 घंटे तक लगातार धरना प्रदर्शन करने के बाद अब किसानों और सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने शाम पांच बजे दिल्ली कूच किया. बताया जा रहा है कि किसानों के धरना प्रदर्शन के कारण काफी ट्रैफिक जाम लगा हुआ था. इस बारे में बात करते हुए शुक्रवार दोपहर को एसएसपी बबलू कुमार और प्रभारी डीएम जे.रीभा ने मेधा पाटकर से बातचीत करने के बाद उन्हें दिल्ली जाने की अनुमति दी गई.

पुलिस अफसरों से बातचीत के दौरान मेधा पाटकर ने कहा कि उन्हें गैर कानूनी तरीके से रोका गया है. ऐसे में या तो उनके खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाए या फिर उन्हें दिल्ली जाने दिया जाए. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार किसानों की आवाज को दबाना चाहती है, लेकिन यह होगा नहीं. बता दें कि सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर को आगरा पुलिस ने बुधवार की रात साढ़े आठ बजे रोका था. वह कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के जत्थे के साथ दिल्ली में हो रहे प्रदर्शन में भाग लेने के लिए आगे बढ़ रही थीं. ऐसे में आगरा के एसपी पश्चिम रवि कुमार ने उन्हें बॉर्डर क्रॉस करने की अनुमति देने से मना कर दिया. इसके बाद से ही मेधा पाटकर और उनका साथ दे रहे किसान वहीं धरने पर बैठ गईं. बताया जा रहा कि किसानों को रोकने के लिए पीएसी की गाड़ियां भी तैनात कर दी गई हैं.

आगरा: पत्नी को फेसबुक-व्हाट्एप पर लगा देख भड़का पति, थाने पहुंचा मामला

मेधा के समर्थन में धरने पर कई संगठन और पूर्व सैनिक भी मौजूद थे.

रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार को हल्की बारिश होने के बाद भी किसान वहां डटे रहे. वहीं, पुलिस ने आगरा-मथुरा मार्ग पर बैठे प्रदर्शनकारियों को कोविड गाइडलाइन का पालन करने के आदेश दिये. उन्होंने लोगों को मास्क लगाने और दूरी बनाए रखने के भी आदेश दिये. बता दें कि मेधा पाटकर के साथ इसमें मध्य प्रदेश किसान सभा ग्वालियर और भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख भी शामिल हैं.sm

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें