आगरा में तीन हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए प्रधानाध्यापक, केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: Sun, 7th Feb 2021, 5:00 PM IST
  • एंटी करप्शन डिपार्टमेंट की टीम ने शिकायत पर कार्रवाई करते हुए जाल बिछाकर बरौली अहीर के नगला बिहारी स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक को रंगे हाथों पकड़ा है. मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है.
जयपुर में सवा लाख की रिश्वत लेने का मामला सामने आया है

आगरा. आगरा में प्रधानाध्यापक द्वारा तीन हजार रुपये की रिश्वत लेने का मामला सामने आया है. आगरा में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने बीते शनिवार की दोपहर बरौली अहीर के नगला बिहारी स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक को तीन हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया है. प्रधानाध्यापक झारपुरा में स्थित प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिक की अनुपस्थित पर निलंबन से उन्हें बचाने के लिए पैसे मांग रहा था.

मामले को लेकर प्रधानाध्यापिका ने इसकी शिकायत तुरंत ही भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को दी, जिसकी शिकायत के आधार पर टीम ने जाल बिछाकर आरोपी को पकड़ लिया. आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. बता दें कि प्रधानाध्यापिका थाना ताजगंज के कृपा धाम अपार्टमेंट में रहती हैं और उनका नाम नीरजा शर्मा है जो कि स्थित गांव झारपुरा के प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापिका हैं.

शराब तस्कर की तलाश में आगरा आई पटना पुलिस, कई स्थानों पर दी दबिश

प्रधानाध्यापिका ने शुक्रवार को एंटी करप्शन की टीम से यह शिकायत की कि आठ जनवरी को तबीयत खराब होने के कारण वह 30 मिनट पहले प्राथमिक विद्यालय से चली आईं थीं. तभी खंड शिक्षा अधिकारी वहां पहुंच गए. ऐसे में प्रधानाध्यापिका को विद्यालय में अनुपस्थित पाकर स्पष्टीकरण मांगा. इस मामले को लेकर खंड शिक्षा अधिकारी ने भी प्रधानाध्यापक जितेंद्र कुमार को स्पष्टीकरण देने के लिए कहा. जितेंद्र कुमार ने नीरजा से निलंबन से बचाने के एवज में पांच हजार रुपये रिश्वत मांगी. जिसकी शिकायत प्रधानाध्यापिका ने एंटी करप्शन ब्यूरो से कर दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें