चार साल की मासूम की अपहरण, रेप फिर हत्या के दोषी रमेश कवाड़िया को उम्र कैद की सजा

Smart News Team, Last updated: Wed, 18th Aug 2021, 10:59 AM IST
  • चार साल की मासूम बच्ची का अपहरण कर उसके साथ रेप करने के बाद हत्या के आरोपी सदर निवासी रमेश कबड़िया को उम्रकैद की सजा सुनाई गई. विशेष न्यायाधीश कुलदीप कुमार ने पॉक्सो ऐक्ट के तहत आरोपी रमेश कबाड़िया को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास के साथ एक लाख तीस हजार रुपये की जुर्माना भी लगाया. 
चार साल की मासूम बच्ची का अपहरण कर उसके साथ रेप करने के बाद हत्या के आरोपी सदर निवासी रमेश कबड़िया को उम्रकैद की सजा सुनाई गई.

आगरा. चार साल की मासूम बच्ची का अपहरण कर उसके साथ रेप करने के बाद हत्या के आरोपी सदर निवासी रमेश कबड़िया को उम्रकैद की सजा सुनाई गई. विशेष न्यायाधीश कुलदीप कुमार ने पॉक्सो ऐक्ट के तहत आरोपी रमेश कबाड़िया को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास के साथ एक लाख तीस हजार रुपये की जुर्माना भी लगाया. न्यायधीश कुलदीप कुमार ने जुर्माने की आधी राशि यानि 65 हजार रुपये बच्ची के पिता को देना का आदेश दिया. विशेष न्यायाधीश कुलदीप कुमार ने कहा की आरोपी ने मानवता को शर्मसार कर दिया है. इस तरह के आरोपी को समाज में कभी भी खुला नहीं छोड़ा जा सकता. इस तरह के आरोपी के बाहर रहने से कभी सभ्य समाज की कल्पना नहीं की जा सकती.

विशेष न्यायाधीश कुलदीप कुमार ने पॉक्सो ऐक्ट के तहत सुनवाई करते हुए कहा की रमेश उर्फ लम्बू कबाड़िया ने वादी के परिवार से सिर्फ बदला लेने के चलते चार साल की मासूम की बच्ची का अपहरण करके उसके साथ अपनी कामोत्तेजना पूर्ति के लिए मासूम के साथ दुष्कर्म किया. इतनी छोटी बच्ची जो लिंग भेद तक नहीं जानती, अच्छे बुरे का पहचान नहीं कर पाती. वह निश्च्छल भाव से हर किसी पर भी भरोसा कर उसकी गोद में चली जाती और वह नहीं समझती कि उसके साथ क्या हो रहा है, फिर भी आरोपी द्वारा मानवता को शर्मसार करते हुए यह भयावह कृत्य किया गया. मृतका अभी अबोध बच्ची थी. उसके सामने अभी उसका पूरा जीवन जीने को बाकी था. ऐसे जघन्य एवं घृणित अपराध करने वालों को कठोरतम दंड दिया जाए.

UP में 11 हजार बच्चों को हर साल मिलेगा 10 हजार रुपये स्कॉलरशिप, ऐसे करें आवेदन

दरअसल चार साल की बच्ची 29 अगस्त 2016 को शाम के समय अपने अन्य दोस्त के साथ भंडारे के आयोजन में गई थी. भंडारे का आयोजन आरोपी रमेश उर्फ लंबू कबड़िया ने किया था. प्रसाद खाने के बाद बच्ची के साथ गए सभी लोग वापस आ गए लेकिन बच्ची नहीं लौटी. घंटों भर इंतेजार के बाद जब मासूम बच्ची घर नहीं लौटी तो परिवार वालों ने खोजना शुरू किया. बच्ची के पिता वादी ने मुहल्ले के अन्य बच्चों से पुछा तो पता चल की मासूम लंबू कबड़िया द्वारा आयोजित भंडारे में प्रसाद खाने गई थी. 

रात में भी करें ताजमहल का दीदार, ताज की टाइमिंग टिकट से जुड़ी जानकारी पढ़ें यहां

पिता वादी ने आपनी 4 साल की मासूम बच्ची की हर संभव जगह पर खोज की लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया. अगले दिन बच्ची की लाश रेलवे लाइन के पास तालाब में मिला. बच्ची के पिता ने शव की पहचान कर शाहगंज थाने में आरोपी रमेश कवड़िया पर शककरते हुए एफआइआर दर्ज कराई. आरोपी के खिलाफ पहले अपहरण, हत्या और साक्ष्य नष्ट करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया, बाद में दुराचार और पॉक्सो ऐक्ट की धाराएं लगाई गई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें