आगरा: रानी हत्याकांड में पुलिस का खुलासा, एक नहीं तीन गोलियां मारी, आरोपी अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 12:05 AM IST
आगरा पुलिस ने रानी हत्याकांड में रानी के पति याकूव को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने खुलासा किया है याकूव ने रानी की हत्या की साजिश अपने भाईयों के साथ मिलकर की थी. पुलिस ने सभी आरोपियों के जेल भेज दिया है.
रानी हत्याकांड में पुलिस द्वारा पकड़े गये मुख्य आरोपी याकूव और उसके दोनों भाई

आगरा के रानी हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया हैं. शुक्रवार को आगरा पुलिस ने खुलासा करते हुए हत्यारोपी पति याकूब और उसके दो भाइयों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है. पुलिस के अनुसार तीनों ने एक-एक गोली चलाई थी. दो गोलियां सिर और एक सीने में लगी थी. याकूव ने तीन साल पहले दूसरी शादी कर ली थी. जिसके बाद रानी ने याकूव और उसके परिजनों के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराया था. पुलिस ने हत्या में प्रयोग किये गये तमंचे और वे स्कूटर भी बरामद कर लिया हैं.

 

आगरा के अबु उल्लाह मार्ग पर 31 अक्तूबर को रानी को एक नहीं तीन गोलियां मारी गई थी. रानी की शादी करीब 15 साल पहले याकूब के साथ हुई थी. दोनों के दो बच्चे हैं. शादी के पांच साल बाद ही दोनों के बीच मनमुटाव हो गया. जिससे रिश्ते में दरार आ गई. तीन साल पहले याकूब ने दूसरी शादी कर ली थी. जिससे परेशान होकर रानी ने याकूव पर मुकदमा दर्ज करा दिया. जानकारी के अनुसार दोनों के बीच करीब दर्जन भर मुकदमे चल रहे थे. याकूब ने पुलिस को बताया कि वह रानी से पीछा छुड़ाना चाहता था. वह समझौते के एवज में 16 लाख रुपये मांग रही थी. उसके पास इतने रुपये नहीं थे.

 

दिवाली आई नजदीक तो दुकान से ड्राई फ्रूट और मिठाई चुरा ले गए चोर

 

मामले का एसएसपी बबलू कुमार ने बताया इस हत्याकांड के खुलासे के लिए एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद के नेतृत्व में छापेमारी चल रही थी. सीओ हरीपर्वत एएसपी सौरभ दीक्षित के नेतृत्व में इंस्पेक्टर न्यू आगरा उमेश चंद त्रिपाठी, एसएसआई विजय सिंह ने कई जगह दबिश दी. साथ ही पुलिस ने बताया कि हत्या वाले दिन आरोपी स्कूटरों पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर आए थे. गलत नंबर लगाने के आरोप में धोखाधड़ी का एक और मुकदमा दर्ज किया गया है.

 

आगरा: पूर्व ब्लॉक प्रमुख राजवीर पर चली गोली, जांच में जुटी पुलिस, आरोपी फरार

 

आत्मसमर्पण की फिराक में था हत्यारोपी

आगरा पुलिस ने बताया कि याकूब पुलिस से बचने के लिए आत्मसमर्पण की कोशिश में था. गुरुवार को वह एक वकील (अधिवक्ता) से मिलने जा रहा था. पुलिस को इस बात की जानकारी हो गई थी. पुलिस ने उसकी घेराबंदी के लिए खंदारी चौराहे के आस-पास जाल बिछाया था. वही दीवानी पर पिछले दो दिनों से पुलिस तैनात की गई थी.

आगरा में मजारों पर पोता था भगवा रंग, सीसीटीवी से पहचान कर भेजा जेल

आगरा: मस्जिद की दीवार पर भगवा रंग करने और हनुमान चालीसा पाठ करने पर 3 अरेस्ट

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें