पुलवामा में शहीद के परिवार साथ आतंकियों जैसा व्यवहार कर रही यूपी सरकार: जयंत चौधरी

Smart News Team, Last updated: Wed, 11th Aug 2021, 11:50 AM IST
  • रालोद मुखिया जयंत चौधरी ने मंगलवार को पुलवामा हमले में शहीद कौशल कुमार रावत के परिवार से मुलाकात की. उन्होंने कहा, सरकार ने जो वादे शहीद परिवार से किये थे. वह अभी पूरे नहीं हुई है. जयंत ने कहा, सात दिन में शहीद परिवार की मांग पूरी नहीं होती है तो रालोद जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव करके आंदोलन करेगी.
आगरा पहुंचे जयंत चौधरी, पुलवामा में शहीद हुए कौशल रावत के परिवार से मुलाकात की.

आगरा: राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के मुखिया जयंत चौधरी मंगलवार को ताजनगरी आगरा पहुंचे. जयंत चौधरी ने आगरा में पुलवामा हमले में शहीद कौशल कुमार रावत के परिवार से मुलाकात की. मुलाकात के बाद जयंत ने कहा, राज्य की योगी सरकार पुलवामा शहीद के परिवार के साथ आतंकियों जैसा व्यवहार कर रही है. शहीद का परिवार शासन और प्रशासन की वादा खिलाफी से आहत है. सरकार ने ऐसा करके देश का अपमान किया है. जयंत चौधरी ने चेतावनी दी है कि सात दिन में शहीद परिवार की मांग पूरी नहीं हुई तो रालोद जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव करके आंदोलन करेगी.

जयंत चौधरी मंगलवार की दोपहर करीब 2.30 बजे शहीद कौशल कुमार रावत के गांव केहरई पहुंचे. गांव पहुंचकर उन्होंने शहीद की समाधि पर पुष्प अर्पित किए. चौधरी ने शहीद की वीरांगना ममता रावत से मुलाकात की. उन्होंने आश्वस्त किया है कि वे हर वक्त उनके साथ खड़े हैं. उन्होंने कहा, कि शहीद के परिजनों की बात सुनकर ऐसा लगता है कि, सरकार ने जो वादे शहीद परिवार से किये थे वो उन्हें अब पूरा नहीं करना चाहती है. प्रशासन और सरकार परिवार को कागजों में उलझा रही है. उन्होंने कहा कि, जो भी पुलवामा के शहीदों की बलिदान का याद करता है, उनको सरकार के इस व्यवहार से चोट पहुंची है. सरकार ने ऐसा करके देश का अपमान किया है. ढाई साल बाद भी अपने वादे पूरे नहीं किये जाने से देश में नकारात्मकता का संदेश जा रहा है.

आगरा में BJP की बड़ी बैठक, अध्यक्ष जेपी नड्डा और CM योगी समेत पहुंचे ये नेता

राज्यपाल से करेंगे मुलाकात

शहीद के परिवार की पीड़ा और समस्याओं को देखकर जयंत चौधरी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखने का फैसला किया है. उन्हें कहा, कि वह इसको लेकर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल से मिलने का समय मागेंगे. उन्होंने कहा, कि ये बहुत गंभीर मामला हैं. उन्होंने बताया कि वे अपने पिता स्व.अजीत सिंह चौधरी के निधन के बाद किसी दूसरे कार्यक्रम में आए हैं. पहली बार वे किसानों संग संसद गए थे और दूसरी बार आगरा शहीद परिवार से मिलने आए हैं. क्योंकि, ये एक परिवार का मामला नहीं, बल्कि पूरे देश का मामला है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें