सेल्स ऑफिसर की मौत के खुलासे पर परिजन उठा रहे सवाल, कहा- पुलिस बचा रही आरोपी

Smart News Team, Last updated: Tue, 10th Aug 2021, 12:06 PM IST
  • सेल्स ऑफिसर सुनील कुमार शर्मा के हत्या के कारणों को उनके परिजन मानने से इनकार कर रहें हैं. परिजनों का कहना है कि पुलिस आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही है. सुनील शर्मा 2 अगस्त से लापता थे.
आगरा में सेल्स मैनेजर की हत्या की पुलिस ने जांच की. वहीं परिवार ने पुलिस पर आरोपियों को बचाने का आरोप लगाया है.

आगरा: सेल्स ऑफिसर सुनील कुमार शर्मा के लापता होने की गुत्थी आखिरकार पुलिस ने सुलझा ली है. पुलिस का कहना है कि सुनील कुमार शर्मा की हत्या कर दी गयी है. पुलिस ने हत्या के पीछे की वजह भी बताई है, लेकिन सुनील शर्मा के परिजन वजह मानने से इनकार कर रहें हैं. पुलिस का कहना है कि सुनील की हत्या की वजह लूट है. जबकि परिजनों ने पुलिस पर ही आरोप लगाया है कि पुलिस आरोपियों को बचाने का काम कर रही है.

दरअसल, दो अगस्त को ट्रांसयमुना कालोनी निवासी 35 वर्षीय सुनील कुमार शर्मा लापता हुए थे. तीन अगस्त को एत्मादुद्दौला थाने में गुमशुदगी लिखी गई थी. सुनील के परिजनों ने सीसीटीवी फुटेज देखकर पुलिस को बताया था कि सुनील की आखिरी लोकेशन गांधी नगर में थी. गांधी नगर में अजय उर्फ डकैत और उसकी पत्नी मोना किराए पर रहते हैं. अजय की बहन उनके घर के सामने जयपाल के मकान में किराए पर रहती है. जयपाल पक्ष से साल 2018 से उनकी रंजिश चल रही है. परिजनों के शक पर पुलिस ने 8 अगस्त को मोना को गिरफ्तार किया था. उसकी निशानदेही पर टीपी नगर में झाड़ियों से पोटली बरामद की गई थी. उसमें सुनील का शव निकला था.

आगरा: बोरे में मिला 6 दिन से लापता सेल्स मैनेजर का शव, एक महिला अरेस्ट

सुनील कुमार शर्मा के शव मिलने के बाद से परिजनों ने पुलिस के लूट वाले खुलासे पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि वे तो पहले दिन से चीख-चीखकर बोल रहे थे अनहोनी हो गई है. उनकी बात पुलिस ने नहीं सुनी. परिजनों का कहना है कि जयपाल पक्ष का एक युवक जेल में बंद था. अभी हाल में जमानत पर छूटा है. अजय उर्फ डकैत उससे जेल में मिलने जाया करता था. परिजनों का कहना है कि दोनों के बीच जब संबंध नहीं थे तो जेल तक दोस्ती निभाने क्यों जाता था, यह हत्या लूट के लिए नहीं बल्कि रंजिश में कराई गई है.

आगरा: पति ने लिखकर खाई कभी शराब नहीं पीने की कसम, तब जाकर पत्नी लौटी घर वापस

वहीं दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि हत्या में मोना और उसका पति शामिल हैं. शव ठिकाने लगाने में टेंपो चालक ने उनकी मदद की थी. इसलिए उसे भी आरोपी बनाया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें