स्कूल को बनाया परीक्षा केंद्र, न पर्याप्त फर्नीचर और न थी बिजली की व्यवस्था

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Feb 2021, 5:30 PM IST
  • उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षा के लिए ऐसे स्कूलों को परीक्षा केंद्र बनाया गया है, जहां सुविधाओं के नाम पर कुछ भी मौजूद नहीं है. न तो स्कूलों में फर्नीचर है और न ही वहां बिजली की व्यवस्था है.
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद

आगरा: उत्तर प्रदेश में स्कूलों की परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं, ऐसे में प्रशासन ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी है. लेकिन उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षा के लिए ऐसे स्कूलों को परीक्षा केंद्र बना दिया गया है, जिनमें सुविधाओं के नाम पर कुछ भी मौजूद नहीं है. न तो स्कूलों में पर्याप्त फर्नीचर है और न ही वहां बिजली की व्यवस्था है. हैरान करने वाली बात तो यह है कि कमरों की बजायइन स्कूलों में बरामदे में कक्षाएं चलती हैं.

बताया जा रहा है कि परीक्षा केंद्र भी इतने दूर-दूर बना दिए गए हैं, जहां जाने में भी विद्यार्थी को परेशानी हो. इन सभी परेशानियों को लेकर स्कूल प्रशासन ने आपत्ति जताते हुए परीक्षा केंद्र को निरस्त करने की मांग सचिव, माध्यमिक शिक्षा परिषद से कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षा के लिए पन्नी गली स्थित रुकमणी देवी मॉडल हायर सेकेंडरी स्कूल को परीक्षा केंद्र बनाया गया है. इस स्कूल को लेकर स्कूल के प्रधानाचार्य ने सचिव, माध्यमिक शिक्षा परिषद को परीक्षा केंद्र निरस्त करने के लिए पत्र भेजा है.

आगरा में साढ़े सात लाख की चोरी, सीसीटीवी फुटेज के सहारे जांच में जुटी पुलिस

प्रधानचार्य ने परीक्षा केंद्र निरस्त करने के लिए कई कारण ही गिनाए हैं. बताया जा रहा है कि स्कूल तक पहुंचने को सुगम मार्ग नहीं है. इसके साथ ही परीक्षा केंद्र का भवन भी जर्जर है और कमरों की बजाय बरामदे में यहां कक्षाएं संचालित हैं. इसके साथ ही स्कूल में बिजली कनेक्शन, सीसीटीवी कैमरे, वायस रिकार्डिंग की व्यवस्था भी नहीं है. स्कूल को आवंटित परीक्षार्थियों की संख्या के अनुसार यहां फर्नीचर भी मौजूद नहीं हैं. बताया जा रहा है कि भवन से संबंधित विवाद न्यायालय में विचाराधीन है, जिसके कारण यहां मरम्मत भी नहीं कराई जा सकती है. स्कूल पूर्व में जिला विद्यालय निरीक्षक को इस समस्या से अवगत करा चुका है.

कूड़े से बनेगी बिजली, SC ने कुबेरपुर लैंडफिल साइट पर प्लांट के लिए दी मंजूरी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें