आगरा में खाली पड़े हैं रैन बसेरे, फुटपाथ पर ठिठुरते नजर आए बेसहारा लोग

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 03:28 PM IST
  • आगरा में नगर निगम के रैन बसेरे होने के बाद भी वह खाली पड़े हैं और लोग सर्दियों में भी ठिठुरते हुए फुटपाथ पर सोने के लिए मजबूर हैं. रिपोर्ट के मुताबिक आगरा में फुटपाथ पर सो रहे लोगों से उनके रैन बसेरे में न जाने का कारण भी पूछा गया.
आगरा में रैन बसेरा खाली पड़े , फुटपाथ पर सोते मिले लोग

आगरा.आगरा में नगर निगम के रैन बसेरे होने के बाद भी वह खाली पड़े हैं और लोग सर्दियों में भी ठिठुरते हुए फुटपाथ पर सोने के लिए मजबूर हैं. रिपोर्ट के मुताबिक आगरा में फुटपाथ पर सो रहे लोगों से उनके रैन बसेरे में न जाने का कारण भी पूछा गया, जिसपर किसी ने बताया कि वहां उनसे काम कराया जाता है तो किसी ने बताया कि उन्हें खुले में सोने की आदत है इसलिए वह रैन बसेरे में नहीं जाते हैं. वहीं खुद रैन बसेरे को लेकर उसके केयर टेकर ऋतिक ने भी लोगों को लेकर बातचीत की.

यूपी विधान परिषद चुनाव: रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नहीं बजेगा लाउडस्पीकर

आगरा के खंदारी चौराहे में नगर निगम का रैन बसेरा 15 लोगों की क्षमता के हिसाब से बना हुआ है. इसमें तीन महिलाओं और 12 पुरुषों के लिए रहने की जगह बनी हुई थी, लेकिन उसमें एक भी व्यक्ति नहीं मिला. इस मामले के बारे में बात करते हुए केयरटेकर रामसेवक ने बताया कि पिछले एक सप्ताह से यहां कोई नहीं आया है. वहीं राजा मंडी स्टेशन रोड पर बने रैन बसेरे को लेकर भी पड़ताल की गई, जो कि 15 लोगों की क्षमता के हिसाब से बना हुआ है.

राजा मंडी स्टेशन रोड पर स्थित रैन बसेरे में तीन ही लोग मौजूद थे. इस बारे में बात करते हुए केयर टेकर ऋतिक ने बताया कि वह लोग दो दिन पहले ही वहां आए हैं. वहीं, रैन बसेरे में मौजूद शंभू ने कहा कि उन्हें लोग यहां रुकने नहीं देते हैं और काम करवाते हैं, जिससे वह यहां नहीं रुक सकते. वहीं, फुटपाथ पर सो रहे लोगों से जब बातचीत की गई तो उनमें से एक व्यक्ति ने बताया कि उसे खुले में सोने की आदत है, जिससे वह रैन बसेरे में नहं जाता.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें