दुकानदार को फर्जी डेबिट का मैसेज दिखाकर करते थे ठगी, गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 09:57 AM IST
  • व्यवसाई को फर्जी बलैंस ट्रांसफर का मैसेज दिखाकर करते थे ठगी, 35 हजार रूपए का मोबाइल फोन खरीदने के बाद मामला आया सामने. रेंज साइबर थाने में आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और आईटी एक्ट की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है
दुकानदार को फर्जी डेबिट का मैसेज दिखाकर करते थे ठगी गिरफ्तार

आगरा: दुकानदार ऑनलाइन रकम ट्रांसफर का सिर्फ मैसेज देखते हैं. उन्हें यकीन हो जाता है कि ग्राहक ने रकम उनके खाते में भेज दी. दो शातिर इसी का फायदा उठाकर बैंक का फर्जी मैसेज दिखाकर दुकानों पर खरीददारी करने पहुंचते थे. एक शिकायत पर रेंज साइबर थाने में दोनों आरोपियों को पकड़ लिया. उनसे पूछताछ की जा रही है. आरोपियों के पास से एक मोबाइल मिला है. जो इसी तरह से खरीदा गया था.किरावली निवासी डिंपी सिंह ने रेंज साइबर थाने में शिकायत की थी. 24 सितंबर को दो युवक दुकान पर आए. 35 हजार रुपये का फोन खरीदा. रुपये नेट बैंकिंग से दुकानदार के खाते में ट्रांसफर करने को कहा. नेफ्ट के माध्यम से रुपये ट्रांसफर किए. दुकानदार के पास रुपये पहुंचने का मैसेज नहीं आया. शातिरों ने अपने मोबाइल में पहले अंडर प्रोसेस का मैसेज दिखाया. इसके बाद दूसरा मैसेज खाते से रकम दुकानदार के खाते में ट्रांसफर होने का दिखाया. दुकानदार को लगा कि सर्वर डाउन होने के कारण उनके पास मैसेज नहीं आया होगा. उन्होंने मोबाइल दे दिया. शातिर मोबाइल लेकर चले गए.

खाते में रकम नहीं आने पर व्यापारी ने शिकायत की थी. साइबर सेल की जांच में मामला खुला. किरावली से खरीदा मोबाइल आरोपियों ने शाह मार्केट में बेच दिया था. दुकानदार से कहा था कि नया है. उन्हें पसंद नहीं है, दूसरा फोन लेंगे. साइबर सेल ने वह मोबाइल बरामद कर लिया. आईएमईआई नंबर दुकानदार के पास मौजूद था. इसलिए मोबाइल पकड़ में आ गया. साइबर सेल ने शाहगंज निवासी अरशद शेख और मकबूल अली को पकड़ा. किरावली और शाह मार्केट में लगे सीसीटीवी से आरोपियों के फुटेज मिल गए थे. उससे उनकी पहचान हुई. सोशल मीडिया के जरिए साइबर सेल की टीम आरोपियों तक पहुंची.

आगरा: पत्नी ने पति की सरे बाजार की चप्पल से पिटाई, प्रेमिका से फरमा रहा था इश्क

 

अरशद ने पुलिस को बताया कि इसी तरह एक मोबाइल खंदौली से भी खरीदा था. कपड़े भी दुकानों से ऐसे ही खरीदा करते थे. सदर में दो दुकानों से पंद्रह हजार रुपये के कपड़े खरीदे थे. रेंज साइबर थाने में आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और आईटी एक्ट की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

आगरा में नहीं लगेगा नाइट क‌र्फ्यू, कोरोना केस नियंत्रण में: डीएम

ऐसे करते थे शातिर खेल

एक खाते से नेट बैंकिंग ऑन कर रखी थी। उस खाते में जीरो बैलेंस रहता था. दुकान से खरीददारी करने के बाद ऑन लाइन उसी खाते से रकम ट्रांसफर करते थे. बैलेंस न होने के कारण अंडर प्रोसेस का मैसेज आता था.सर्वर डाउन चल रहा है, यह बोलकर कुछ देर दुकान पर ही रुकते थे. अंडर प्रोसेस के मैसेज को शातिर अपने दोस्त को ट्रांसफर कर देता था. वह उस मैसेज में छेड़छाड़ करके रकम ट्रांसफर का मैसेज बना देता था. शातिर उसी मैसेज को दुकानदार को दिखा देते थे. दुकानदार खाते का बैलेंस चेक किए बिना उन्हें सामान दे देता था.

पेट्रोल डीजल आज 1 दिसंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर में तेल का दाम नहीं बढ़ा

मुंबई से जेल गया था अरशद ।

अरशद ने रेंज साइबर थाने की पुलिस को बताया कि पहले व्यापार करता था। घाटा हो गया। मुंबई के एक दोस्त ने उससे संपर्क किया.अरशद ने पुलिस को बताया कि पूर्व में वह व्यवसाय करता था. घाटा होने पर उसकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई. तभी उसके मुंबई के एक दोस्त ने उससे संपर्क किया. दोस्त साइबर ठगी करता था, उसके खाते में लोगों की रकम ट्रांसफर करने लगा. इसके बदले में उसे दस प्रतिशत हिस्सा मिलने लगा. उसे लगा कि यह काम बहुत अच्छा है. कुछ नहीं करना है, मुंबई में दोस्त पकड़ गया. उसका नाम भी पुलिस रिकार्ड में आ गया. मुंबई पुलिस ने पकड़कर जेल भेज दिया. जमानत पर बाहर आया. कोई काम धंधा नहीं था, खर्चे पूरे करने के लिए यह काम शुरू कर दिया.

आगरा: अमित शाह को मामा बताकर ठगी कर रहा था फर्जी भांजा, विधायक को भी नहीं छोड़ा

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें