IIT बॉम्बे में मनचाहे कोर्स में मिला दाखिला, गलत लिंक पर क्लिक करने से गई सीट

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 02:32 PM IST
आगरा के सिद्धांत को आईआईटी बॉम्बे में मनचाही कोर्स में एडमिशन मिल गया था. लेकिन उसकी एक गलतफहमी की वजह से अब यह सीट उसके हाथ से चली गई है. सिद्धांत ने अब सुप्रीम कोर्ट में एक्स्ट्रा सीट बढ़ाने के लिए अपील की है.
आगरा के सिद्धांत बत्रा के एक गलत लिंक पर क्लिक करने की वजह से उसने आईआईटी बॉम्बे में मिली सीट खो दी.

आगरा. आगरा के सिद्धांत बत्रा को आईआईटी बॉम्बे में उसके मनचाहे कोर्ट में सीट मिल गई थी लेकिन उसने गलतफहमी में एक लिंक पर क्लिक कर दिया और सीट से अपनी दावेदारी हटा ली. इसके बाद उससे हुई एक छोटी सी चूक से उसका सपना बर्बाद होता नजर आ रहा है. इसके लिए सिद्धांत ने अब सुप्रीम कोर्ट में भी अपील की है जिस पर मंगलवार को फैसला होगा.

जानकारी के अनुसार आगरा के रहने वाले सिद्धांत बत्रा को अक्टूबर में हुई आईआईटी जेईई एडवांस की परीक्षा में ऑल इंडिया 270 वीं रैंक मिली थीं. उस वक्त वह आगरा में काफी चर्चा में रहा था.

दुकानदार को फर्जी डेबिट का मैसेज दिखाकर करते थे ठगी, गिरफ्तार

आपको बता दें कि सिद्धांत अनाथ है. उसके पिता की मौत तो बहुत पहले ही हो गई थी. 2 साल पहले उसकी मां की भी मौत हो गई.सिद्धांत इस समय अपने ननिहाल में रह रहा है. उसे अनाथ पेंशन भी मिलती है. आईआईटी में 270 वीं रैंक ने उसके हौसले बुलंद कर दिए थे. उसे आईआईटी बॉम्बे में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की सीट भी मिल गई थी लेकिन उससे हुई छोटी-सी गलती से उसका यह सपना अब धूमिल होता हुआ नजर आ रहा है.

सिद्धांत के अनुसार 18 अक्टूबर को सीट बंटवारे के लिए पहले राउंड को वह में है पूरा कर चुका था. 31 अक्टूबर को अपने रोल नंबर की अपडेट देखते समय उसे एक लिंक मिला जिस पर लिखा था सीट निर्धारण और अगले राउंड से विदड्रॉ. उसने यह सोच कर इस पर क्लिक कर दिया कि उसे मनचाही सीट मिल गई है और अब उसे अगले राउंड की जरूरत नहीं है.

आगरा में नशेबाजी में चली गोली से युवक की मौत

इसके बाद 10 नवंबर को जारी हुई इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कोर्स लिस्ट में उसका नाम नहीं था. इस कोर्स के लिए कुल 93 सीटें हैं. उसने राहत पाने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की. जिस पर 19 नवंबर को सुनवाई हुई और अदालत ने आईआईटी से उसकी अपील पर विचार करने को कहा. आईआईटी बॉम्बे ने उसे यह कहते हुए ठुकरा दिया कि नियम के अनुसार उसे ऐसा करने का अधिकार नहीं है. प्रवेश के लिए सिद्धांत को अब अगले साल फिर से इस परीक्षा में बैठना होगा.

अब सिद्धांत ने सुप्रीम कोर्ट में इसके लिए अपील की है. उसने अपील में कहा है कि उसके लिए एक एक्स्ट्रा सीट बढ़ाई जाए. जिस पर मंगलवार को सुनवाई होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें