शर्मनाक!विकलांग मां को जंगल में अकेला छोड़कर भागे बेटा-बहू, अब वृद्धाश्रम पहुंची

Smart News Team, Last updated: Wed, 14th Jul 2021, 8:05 AM IST
आगरा में बेटे बहू ने अपने बुजुर्ग विकलांग मां को शहर के कैलाश जंगल में छोड़ कर फरार हो गए. 3 दिन से भूखी और गर्मी से बेहाल नंगे पैर मां मदद मांग रही थी. इसके बाद जंगल से गुजर रहे लोगों ने बुजुर्ग महिला को देखा. तो इसकी खबर रामलाल वृद्धाश्रम को दिया.
बुजुर्ग विकलांग मां को जंगल में छोड़ कर फरार हुए कलयुगी बेटे बहु (प्रतीकात्मक चित्र)

आगरा : आगरा में बेटे और बहू ने मिलकर अपनी बुजुर्ग विकलांग मां को दवा दिलवाने के बहाने कैलाश के जंगल में छोड़ कर चले गए. जंगल में बिना खाए पिए मदद की गुहार लगा रही असहाय बुजुर्ग मां को जब राहगीरों ने देखा तो रामलाल वृद्धाश्रम को फोन करके बुलाया. मौके पर पहुंचे रामलाल वृद्धाश्रम के लोगों ने 80 साल की बुजुर्ग विकलांग महिला को रामलाल वृद्धाश्रम में ले जा कर छोड़ दिया. रामलाल वृद्धाश्रम संचालक शिव प्रसाद शर्मा ने जब बुजुर्ग महिला से उनके बेटों का नंबर पूछा तो वह नंबर नहीं बता पाई. लेकिन महिला के बताए गए पते पर वृद्धाश्रम के लोग जा जायेगें. साथ ही बेटे और बहू पर कार्यवाही करने की योजना भी है.

बीते कुछ दिन पहले ही बेटों ने अपने बुजुर्ग मां को घर से बाहर निकाल दिया था. बुजुर्ग महिला को तड़पता देख पड़ोसियों ने पुलिस को बुला दिया. मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला के दोनों बेटों को थाने में दोनों बेटों को बुलाया. इसके बाद पुलिस ने दोनों बेटों से शपथ पत्र पर लिखवाया की अब से अपनी बुजुर्ग मां का ध्यान देंगे. पुलिस की चेतावनी कलयुगी बेटों को डरा नहीं सकी और उन्होंने दोबारा अपनी मां को परेशान करने लगे. विकलांग मां ने आरोप लगाया है कि उनके बेटों ने कई बार उन्हें सड़क पर इसी तरह छोड़ दिया था. पर पड़ोसियों ने मदद करके बुजुर्ग मां को घर में रखवा देते थे. पर इस बार बेटी और बहू ने उन्हें जंगल में छोड़ दिया.

आगरा में अपराध का आतंक, नाबालिग लड़की को बंधक बनाकर किया रेप

बुजुर्ग विकलांग महिला ने बताया कि उनका नाम महादेवी वर्मा है. 80 साल की है और उनके पति का निधन हो चुका है. वह राजनगर राजामंडी की रहने वाली है. महिला के पति ने मजदूरी करके अपने बेटों के रहने के लिए घर बनवाया था. पति के निधन के बाद से ही दोनों बेटों ने इनकी जिम्मेदारी उठाना नहीं चाहते हैं. किसी तरह बेटे बहु उनको अपने पास रखते थे. लेकिन आए दिन घर से वह बाहर ही निकाल देते थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें