वायु प्रदूषण से आपकी रक्षा करेगा जरा सा गुड़, कोरोना के लिए भी फायदेमंद

Smart News Team, Last updated: Thu, 12th Nov 2020, 12:58 AM IST
  • एसएनएमसी डा. अजीत सिंह चाहर का कहना है कि प्रदूषण से बचने के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद गुड़ है. अगर आप गुड़ को दैनिक जीवन में डाइट में गुड़ को शामिल करके प्रदूषण और स्मॉग से होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है. गुड़ में काफी एंटी एलर्जिक गुण है जो अस्थमा रोगियों के लिए काफी फायदेमंद होता है.
प्रदूषण से बचने के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद गुड़ है.

आगरा. प्रदुषण इस समय उत्तर भारत की सबसे बड़ी समस्याओं में एक है जिसका हल आपकी रसोई में पड़ा गुड़ बेहतर काम कर सकता है. एसएनएमसी  डा. अजीत सिंह चाहर का कहना है कि प्रदूषण से बचने के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद गुड़ है. अगर आप गुड़ को दैनिक जीवन में डाइट में गुड़ को शामिल करके प्रदूषण और स्मॉग से होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है. गुड़ में काफी एंटी एलर्जिक गुण है जो अस्थमा रोगियों के लिए काफी फायदेमंद होता है. आयरन की भरपूर मात्रा होने के कारण हीमोग्लोबिन का लेवल सामान्य करता है. गुड़ खांसी-जुकाम जैसी परेशानियों को भी दूर करता है.

प्रदुषण की समस्या से लड़ने के लिए डाइट में बदलाव करना काफी जरुरी है. खाना खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ जरूर खाएं जिससे की शरीर में खून साफ रहेगा. फेफड़ों को धूल के कणों जम ना जाए इससे बचाने के लिए एक गिलास गर्म दूध जरूर पिएं. अदरक के रस, सरसों का तेल को नाक में बूंद-बूंद कर डालने प्रदुषण संबंधी समस्या से फायदा मिलेगा. प्रदुषण की समस्या से निपटने के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपाय जा सकते हैं इसमें शहद में काली मिर्च मिलाकर खाने से फेंफड़ों में जमा कफ/गंदगी निकल जाएगी. अजवायन की पत्तियों का पानी पीने से भी खून साफ होता है और दूषित तत्व को शरीर से बाहर निकाला जाता है. 

यूपी में महंगी नहीं होगी बिजली, विद्युत दरों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव खारिज

प्रदुषण से निपटने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए जैसे धूप निकलने पर ही टहलने के लिए निकले और अगर रात को टहलते हैं तो इसे बंद कर दें. मुंह को ढककर घऱ से निकलें या मास्क पहने. साथ ही आंखों पर चश्मा लगाना बहुत जरूरी है. लगातार प्रदूषण में होने से कुछ रोग शरीर को जकड़ लेते है. इससे कुछ परेशानियों को सामना करना पड़ सकता है. जिसमें से जुकाम होना, सांस लेने में तकलीफ आंखों में जलन, खांसी, टीबी और गले में में इन्फेक्शन, साइनस, अस्थमा, फेफड़ों से सम्बंधित बीमारियां हो सकती हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें