मोहब्बत की निशानी पर कुदरत का कहर, तूफान में ताजमहल के गेट की रेलिंगें टूटीं

Shankar Pandit, Last updated: 31/05/2020 02:06 PM IST
  • कोरोना लॉकडाउन में एक ओर ताजमहल सूना और विराम दिख रहा है, दूसरी ओर मौसम की मार भी झेल रहा है। मोहब्बत की निशानी पर कुदरत हर सितम ढा रहा है। आगरा में आए भयंकर आंधी-तूफान से ताजमहल सहित अन्य स्मारकों को भी नुकसान पहुंचा है।
Taj Mahal

कोरोना लॉकडाउन में एक ओर ताजमहल सूना और विराम दिख रहा है, दूसरी ओर मौसम की मार भी झेल रहा है। मोहब्बत की निशानी पर कुदरत हर सितम ढा रहा है। आगरा में आए भयंकर आंधी-तूफान से ताजमहल सहित अन्य स्मारकों को भी नुकसान पहुंचा है। तूफान की वजह सहे ताजमहल के पश्चिमी गेट की चूलें हिल गईं। दरवाजे में क्रेक आ गया है। कईं रेलिंगें टूट गईं। पेड़ भी गिर गए। सारे स्मारकों में लगभग 35 लाख रुपये का नुकसान हुआ है।

ताजमहल के मुख्य गुंबद के प्लेटफॉर्म की आठ और चमेली फर्श की दो जालियां टूट गईं। पश्चिमी गेट बुकिंग विंडो की ओर लगी फॉल सीलिंग उखड़ गई। डीएफएमडी भी टूट गए। तीन दर्जन से ज्यादा पेड़ों की डालियां गिर गईं। पाथवे पर टूटी डालियां पड़ी हुई हैं। मजदूर न होने के कारण लॉकडाउन खुलने के बाद ही काम शुरू हो सकेगा। सिकंदरा मकबरे में इनले पीस टूटकर गिर गए। मेहताब बाग में एक दीवा‌र ही गिर गई। मरियम टॉम्ब में भी पेड़ों के गिरने से काफी नुकसान हुआ है।

इधर, पुरातत्व महानिदेशक वी विद्यावती शनिवार दोपहर लगभग 12.30 बजे ताजमहल पहुंच गईं। उन्होंने यहां हुए नुकसान का जायजा लिया। एस्टीमेट बनाने के निर्देश दिए। अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि नुकसान का एस्टीमेट बनाया जा रहा है। अभी मजदूर भी नहीं है। जैसे ही लॉकडाउन खुलेगा, लेबर को बुलाकर काम शुरू कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि सारे स्मारकों में दिखवा लिया गया है। थोड़ा-थोड़ा नुकसान हुआ है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें