कोरोना काल में ताज महल में इश्क नहीं होगा आसान, सोशल डिस्टेंसिंग रखा जाएगा ध्यान

Smart News Team, Last updated: Sun, 20th Sep 2020, 12:09 PM IST
स्मारक परिसर में किसी को ना ही सटकर चलने की और ना ही पास-पास बैठने की की इजाजत नहीं होगी. सभी को दो गज की दूरी बनाकर ही स्मारक परिसर में भ्रमण करना होगा. कोरोना संक्रमण के कारण की सुरक्षाकर्मी को तैनात किया जाएगा जो लोगों पर सोशल-डिस्टेंसिंग को लेकर नजर रखेगें.
ताजमहल प्रवेश-द्वार पर लगाए गोलों के निशान

आगरा. कोरोना महामारी के चलते ताजमहल को सैलानियों के लिए बंद किया गया था . अब इसे सोमवार से दोबारा खोलने के लिए तैयारीयाँ पूरी हो चुकी हैं. लेकिन सैलानीयों को ताज के दीदार के लिए कुछ सोशल डिस्टेंसिंग के नये नियमों की पालना करनी होगी. ताजमहल देखने आए सैलानी अब एकदूसरे की गलबहियां नहीं कर सकेंगे. सुरक्षा की दृष्टि से प्रवेश-द्वार पर जो सख्ती होती थी वो अबक कोरोना से बचाव को लेकर बरती जाएगी. कोरोना संक्रमण के कारण की सुरक्षाकर्मी को तैनात किया जाएगा जो लोगों पर सोशल-डिस्टेंसिंग को लेकर नजर रखेगें.   

कोरोना से बचाव के चलते लगभग छह महीने बाद 21 सितंबर को खुलने वाले ताजमहल को देखने के लिए अब नियम बनाए गए है. स्मारक परिसर में किसी को ना ही सटकर चलने की और ना ही पास-पास बैठने की की इजाजत नहीं होगी. सभी को दो गज की दूरी बनाकर ही स्मारक परिसर में भ्रमण करना होगा. वहीं शाही मस्जिद में शुक्रवार को जमा की नमाज में मात्र 100 नमाजियों को ही प्रवेश की अनुमति होगी. वह भी पश्चिमी गेट से ही प्रवेश दिया जाएगा. 

आगरा: बदमाशों ने वकील पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, पुरानी रंजिश थी वजह

ताजमहल को खोलने की तैयारियाँ को लेकर वरिष्ठ संरक्षण सहायक अमरनाथ गुप्ता ने बताया कि सारे प्रवेश द्वारों पर सेनेटाइजेशन करा दिया गया है. पत्थरों पर भी सेनेटाइजेशन कराया जा रहा है और यह  प्रतिदिन दो बार कराया जाएगा. पूर्वी और पश्चिमी गेटों पर सैलानी दो गज की दूरी बनाते हुए गोलों में खड़े होंगे. उसके बाद एक-एक कर प्रवेश करेंगे. इसके लिए गोलों के निशान बना दिए गए हैं. प्रवेश द्वार पर लगी रेलिंग को भी सेनेटाइज कराया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें