आगरा: साइबर ठगों को क्रेडिटकार्ड धारकों का डाटा देने वाली महिला समेत दो गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 10/02/2021 02:31 PM IST
  • आगरा की खेरागढ़ थाना पुलिस ने क्रेडिट कार्डधारकों का डाटा लीक करने के मामले में आरोपी मोनिका के साथ ही बैंकों के कॉल सेंटर से जुड़े एक कर्मचारी को भी अरेस्ट किया है. आरोपी महिला के खाते में करीब 17 लाख रुपए के लेनदेन की पुष्टि हुई है.
फाइल फोटो

आगरा. आगरा की खेरागढ़ थाना पुलिस ने बीते मंगलवार को क्रेडिट कार्डधारकों का डाटा साइबर ठगों को देने वाली मोनिका नाम की आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने मोनिका के साथ ही बैंकों के कॉल सेंटर से जुड़ा एक कर्मचारी भी गिरफ्तार किया है. मोनिका दिल्ली की रहने वाली है, जिसने छह महीने के अंदर ही हजारों क्रेडिटकार्ड धारकों के डाटा साइबरठगों को बेच दिये हैं. जांच के दौरान मोनिका के खाते में करीब 17 लाख रुपये से अधिक के लेन-देन की जानकारी भी हासिल हुई है.

मोनिका के साथ ही वारदात में एक और आरोपी का नाम सामने आया है, जिसकी तलाश में पुलिस लगी हुई है. इस बारे में बात करते हुए एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि भिलावली, खेरागढ़ निवासी गजेंद्र सिंह को भारतीय स्टेट बैंक की शाखा में गौरव नाम के व्यक्ति ने क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए बुलाया. उसने गजेंद्र से क्रेडिट कार्ड का फार्म भरवा लिया और 3 नवंबर, 2020 को गजेंद्र के घर पर क्रेडिट कार्ड भी पहुंच गया. लेकिन तभी उसके क्रेडिट कार्ड से 20589 रुपये की शॉपिंग हो गई. इस बात की जानकारी गजेंद्र को बैंक जाकर हुई. ऐसे में गजेंद्र ने मामले को लेकर 22 जनवरी को मुकदमा दर्ज कराया.

आगरा : एक्सपायरी दवाओं को रिपैक कर बाजार में बेचते थे दो भाई, बन गए करोड़पति

पुलिस द्वारा जांच में पता चला कि यह काम दिल्ली के एक गैंग ने किया है, जिन्होंने फर्जी शॉपिंग साइट बनाई है. वह बैंकों से क्रेडिट कार्ड धारकों का डाटा चोरी करके कार्ड धारकों से कार्ड पहुंचने से पहले ही जानकारी और ओटीपी हासिल कर लेते हैं. साइट की मदद से ही वह पैसों की लेन-देन खातों में किया करते हैं. पुलिस ने गैंग के मुख्य सौरभ सहितचार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. वहीं, आरोपी मोनिका को पुलिस ने बीते मंगलवार को गिरफ्तार किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें