अस्पताल स्टाफ से ऑक्सीजन सिलेंडर छीनकर ले गईं तहसीलदार मैडम, तड़पते रहे मरीज

Smart News Team, Last updated: 26/04/2021 07:54 PM IST
  • आगरा के फिलिंग स्टेशन पर तहसीलदार और एसडीएम ने अस्पतालों पर कालाबाजारी का आरोप लगाते हुए ऑक्सीजन भरने से रोक लगा दी. चौहान अस्पताल के भरे हुए सिलेंडर को भी वापस रखवा दिया. स्टाफ कहता रहा कि उनके यहां मरीज भर्ती हैं फिर भी सिलेंडर नहीं दिए गए.
तहसीलदार ने अस्पतालों पर कालाबाजारी का आरोप लगाते हुए ऑक्सीजन सिलेंडर वापस ले लिए.

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो गई है. इसी बीच एक मामला सामने आया है जिसमें तहसीलदार ने परिजन और अस्पताल को ऑक्सीजन फिलिंग स्टेशन भरने से मना कर दिया. अस्पताल के जिन लोगों ने सिलेंडर भरवा लिए थे, टैंपो रखने से पहले उनको भी वापस ले लिया गया. अस्पताल ने कोविड सेंटर बंद करने के लिए सीएमओ को पत्र लिखा है.

ये मामला हाथरस रोड पर स्थित फिलिंग स्टेशन का है. कालिंदी विहार के चौहान अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म हो गए थे. अस्पताल के स्टाफ सिलेंडरों को भरवाने के लिए नंदलाल पर फिलिंग स्टेशन गया. सिलेंडर भरवाने के बाद जैसे ही टैंपों में रखने गया. उससे पहले ही तहसीलदार प्रीति जैन और एसडीएम प्रियंका सिंह ने अस्पतालों पर कालाबजारी का आरापे लगाते हुए सिलेंडर रखवा लिए.

परिजन ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए हाथ जोड़ते रहे लेकिन सिलेंडर नहीं ले जाने नहीं दिया गया.

बेटे को नहीं मिली एम्बुलेंस, कार की छत पर पिता का शव बांधकर पहुंचा श्मशान घाट

अस्पताल का स्टाफ तहसीलदार मैडम से कहता रहा कि उनके यहां 12 मरीज भर्ती हैं. इसके बावजूद सिलेंडरों को सेंट पीटर्स ऑक्सीजन हब में भेज दिया गया. मरीजों के परिजन हाथ जोड़कर सिलेंडर मांगते रहे लेकिन पुलिस उनको हड़काकर भगा दिया. इसके बाद चौहान अस्पताल के संचालक ने अपने अस्पताल को कोविड सेवाओं से अलग रखने के लिए सीएमओ को पत्र लिखा है. 

कोरोना काल में तेजी से चल रहा आगरा मेट्रो का काम, 13 पिलर और 355 पाइल बनकर तैयार

मिली जानकारी के अनुसार, अस्पताल के संचालक ने सीएमओ से कोविड सेंटर को बंद करने की अनुमति मांगी है. ऑक्सीजन की किल्लत वाले सभ अस्पतालों ने अब कोविड का इलाज करने से मना कर दिया है. वहीं आगरा के टेढ़ीबगिया फिलिंग स्टेशन पर रात 3 बजे तक परिजनों की लंबी लाइन लगी रही. परिजनों का आरोप है कि पुलिसकर्मी अंदर से ही सिलेंडर बाहर भिजवा रहे हैं जबकि बीमारों के लिए ऑक्सीजन नहीं है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें