UP चुनाव: टिकट न मिलने पर फूट-फूटकर रोए एसके शर्मा, बीजेपी छोड़ने का ऐलान

Jayesh Jetawat, Last updated: Tue, 18th Jan 2022, 3:18 PM IST
  • मथुरा जिले की मांट विधानसभा से टिकट न मिलने पर बीजेपी नेता एसके शर्मा मीडिया के सामने भावुक हो गए और फूट-फूटकर रोने लगे. उन्होंने बीजेपी छोड़ने का ऐलान किया है.
टिकट न मिलने पर रोने लगे बीजेपी नेता एसके शर्मा (फोटो- सोशल मीडिया)

आगरा: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में बीजेपी की उम्मीदवारों की लिस्ट जारी होने के बाद कई टिकट दावेदारों को झटका लगा है. मथुरा जिले की मांट विधानसभा सीट से बीजेपी नेता संजय कुमार उर्फ एसके शर्मा ने टिकट न मिलने पर उन्होंने पार्टी छोड़ने का ऐलान कर दिया. इतना ही नहीं मीडिया से बातचीत के दौरान वे फूट-फूटकर रोने लग गए और बीजेपी नेताओं पर पैसे खाने के आरोप भी लगाए.

एसके शर्मा ने मंगलवार को कहा कि बीजेपी में लूट चल रही है. ये अब पुरानी विचारधारा वाली पार्टी नहीं रही. उनके समर्थक और शुभचिंतक जो कहेंगे वो करेंगे. इसलिए वे बीजेपी छोड़ने जा रहे हैं. मीडिया से बातचीत के दौरान शर्मा भावुक हो गए और फूट-फूटकर रो पड़े. उनका रोते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

बीजेपी ने शनिवार को यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की. इसमें मथुरा की मांट विधानसभा सीट से राजेश चौधरी को टिकट दिया गया. चौधरी बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता हैं. इस सीट से एसके शर्मा भी प्रमुख दावेदर थे, मगर पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया. इससे नाराज होकर शर्मा ने बीजेपी के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया.

यूपी चुनाव: सीट बंटवारे पर अखिलेश से चाचा शिवपाल नाराज ! 6 की जगह 1 सीट मिलने की खबर

रविवार को एसके शर्मा अपने समर्थकों के साथ पार्टी के जिला दफ्तर पहुंचे और जमकर हंगामा किया. उन्होंने पार्टी आलाकमान के खिलाफ नारेबाजी की और कहा कि राजेश चौधरी की जमानत जब्त हो जाएगी.

पिछले चुनाव में तीसरे नंबर पर रहे थे एसके शर्मा

पिछले विधानसभा चुनाव में एसके शर्मा मांट से बीजेपी के प्रत्याशी थे. हालांकि उस चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा और करीब 60 हजार वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे थे. हालांकि शर्मा का कहना है कि इस सीट पर पहली बार बीजेपी को इतने ज्यादा वोट मिले थे. पार्टी ने उन्हें चुनाव लड़ने के लिए बहुत कम समय दिया था, इसलिए हारना पड़ा. इसके बाद बीजेपी ने उन्हें एमएलसी बनाने का वादा किया था, मगर पांच साल बीत जाने के बाद ये वादा भी पूरा नहीं हुआ.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें