आगरा

UP बोर्ड परीक्षा परिणाम आज, आगरा के 1 लाख 19 हजार छात्रों के भाग्य का होगा फैसला

Smart News Team, Last updated: 27/06/2020 08:31 AM IST
  • यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटर का परीक्षाफल आज घोषित होने की संभावना है। दोपहर 12 बजे परीक्षाफल बोर्ड की बेवसाइट पर अपलोड करने का दावा किया गया है।
up board exams 2020

यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटर का परीक्षाफल आज घोषित होने की संभावना है। दोपहर 12 बजे परीक्षाफल बोर्ड की बेवसाइट पर अपलोड करने का दावा किया गया है। जिले के 1 लाख 19 हजार परीक्षार्थियों ने बोर्ड परीक्षा में भाग लिया है। उनके भाग्य का फैसला होगा। परीक्षाफल को लेकर छात्रों की धड़कनें तेज हो रही हैं। लॉकडाउन के कारण परीक्षाफल दो माह देरी से घोषित हो रहा है।

सबसे पहले यूपी बोर्ड का परीक्षाफल आ रहा है। शनिवार को दोपहर तक बोर्ड के स्तर से परीक्षाफल घोषित करने की संभावना है। हाईस्कूल के मुकाबले इंटर के छात्रों में अधिक बेचैनी है, क्योंकि परीक्षाफल का प्रतिशत उनके आगे की राह खोलेगा। इस वर्ष आगरा जिले में करीब एक लाख 19 हजार 814 परीक्षार्थियों ने फार्म भरे थे, जिसमें हाईस्कूल के 62,865 व इंटर के 56,949 परीक्षार्थी थे। हाईस्कूल में ग्रेड सिस्टम होने के कारण फेल होने की आशंका कम रहती है। जबकि इंटर में छात्रों के लिए प्रतिशत मायने रखेंगे। बोर्ड परीक्षा मार्च माह में संपन्न हो गई थी।

अप्रैल माह तक परीक्षाफल आने की उम्मीद थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से मूल्यांकन कार्य नहीं हो सका। इस वजह से परीक्षाफल भी घोषित नहीं हुआ। संयुक्त शिक्षा निदेशक डॉ. मुकेश अग्रवाल ने बताया कि परीक्षाफल को लेकर परीक्षार्थियों को अधिक दबाव लेने की जरूरत नहीं है। मेहनत से परीक्षा देने वालों को हर परिणाम स्वीकार करना चाहिए। कम अंक आने पर निराश न हों।

परीक्षाफल की घड़ी में अभिभावकों को विशेष भूमिका निभानी होगी। ऐसा प्राचार्यों का मानना है। आरबीएस इंटर कॉलेज के प्राचार्य डॉ. यतेंद्र पाल सिंह का कहना है कि हर छात्र मेहनत के साथ परीक्षा देता है। इसलिए परीक्षाफल को लेकर चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। अभिभावक अपने बच्चों का उत्साह बढ़ाएं। प्राचार्य डॉ. एके वशिष्ठ का कहना है कि परीक्षाफल घोषित होने के बाद किसी बच्चे के अंक कम आते हैं, तो उसके अभिभावकों को साथ देना चाहिए। उस छात्र को डांटने या फटकारने के स्थान पर प्यार से समझाएं। उसे आगे और मेहनत करने के लिए प्रेरित करें। परीक्षाफल के समय मां या पिता में से एक को बच्चे के साथ रहना चाहिए।

अन्य खबरें